पश्चिम बंगाल में अचानक क्यों बढ़ी कंडोम की मांग, जानिए पूरा मामला

पश्चिम बंगाल के कुछ इलाकों में युवा अजीबोगरीब लत के शिकार हो गये हैं. इसके चलते इन इलाकों में फ्लेवर्ड कंडोम की मांग में अचानक बेतहाशा वृद्धि हो गयी है.

दुर्गापुर (पश्चिम बंगाल): दुर्गापुर में रहने वाले मुट्ठी भर युवक एक अजीबोगरीब लत की चपेट में हैं. यह सभी के लिए चौंकाने वाला है. पिछले कुछ दिनों से शहर के विभिन्न हिस्सों जैसे सिटी सेंटर, बिधाननगर, बेनाचिटी, और मुचिपारा, सी जोन और ए जोन में फ्लेवर्ड कंडोम की बिक्री में बेतहाशा वृद्धि हुई है.

इससे निवासियों में कौतूहल बना हुआ है. एक दुकानदार ने जिज्ञासावश ग्राहक से पूछा— फ्लेवर्ड कंडोम की बिक्री क्यों बढ़ गई है. युवक ने कहा कि वह नियमित रूप से कंडोम खरीदता है और उसे ड्रिंक के रूप में इस्तेमाल करता है. उसने कहा,’हम पूरी रात गर्म पानी में कंडोम डालते थे और अगली सुबह वही पीते हैं.’ मैं बूंद भी लेता हूं. हालांकि, यह आश्चर्य की बात है कि यह घटना औद्योगिक शहर में हो रही है. शहरवासी इस नई सनक के बारे में चिंतित हैं.

दुर्गापुर में कई निजी इंजीनियरिंग, प्रबंधन और अन्य कॉलेज हैं. यहां कई स्थानीय और विदेशी छात्र इकट्ठा होते हैं. महीनों तक क्षेत्र में दवा की दुकानों पर कंडोम के पैकेट खरीदने की मजबूरी देख हर कोई हैरान है. दुकानदार ने कहा, ‘मैं सोचने लगा कि शहरवासियों की यौन इच्छा अचानक इतनी बढ़ कैसे गई!’ सूत्रों के मुताबिक, छात्र इन फ्लेवर्ड कंडोम को रात भर गर्म पानी में भिंगोकर इसका पानी पीते हैं और उन्हें पीने के बाद उन्हें तरोताजा महसूस होता है. 

फ्लेवर्ड कंडोम की बिक्री अचानक बढ़ गई जैसा कि स्टॉक खत्म हो गया हो. अधिकांश खरीदार अविवाहित युवा हैं, कॉलेज जाने वाले छात्र हैं और कुछ नए स्नातक हैं जो नौकरी की तलाश में हैं. शहर में हर कोई अकेला रह रहा है. नशे के इस नए रूप को जानकर दुर्गापुर वासी हैरान हैं. लोग कहते हैं, ‘कंडोम में सुगंधित यौगिक होते हैं. इसे शराब बनाने के लिए तोड़ा जाता है. यह नशे की लत है. सुगंधित यौगिक डेंड्राइट गोंद में भी पाया जाता है. बहुत से लोग डेंड्राइट का इस्तेमाल नशे के लिए भी करते हैं.’

Back to top button