World Championship: वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में नीरज चोपड़ा को सिल्वर, ये मुकाम हासिल करने वाले पहले भारतीय

भारत के जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने अमेरिका के यूजीन में 18वीं वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल जीता है। उन्होंने 88.13 मीटर भाला फेंक कर यह मेडल हासिल किया। गोल्ड ग्रेनेडा के एंडरसन पीटर्स ने जीता उन्होंने 90.46 मीटर भाला फेंका।

इसी इवेंट में भारत के रोहित यादव भी थे। वे 78.72 मीटर भाला फेंककर 10वीं पोजिशन पर रहे।

प्रधानमंत्री मोदी ने दी बधाई

नीरज चोपड़ा द्वारा इतिहास रचने के बाद देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें बधाई दी। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ‘हमारे सबसे प्रतिष्ठित एथलीटों में से एक नीरज द्वारा एक और बड़ी उपलब्धि के लिए उनको बहुत बधाई। यह भारतीय खेलों के लिए एक विशेष क्षण है। नीरज को उनके आगामी प्रयासों के लिए शुभकामनाएं।’

फाइनल में नीरज की परफॉर्मेंस…

पहला थ्रो फाउल
दूसरा थ्रो 82.39 मीटर
तीसरा थ्रो 86.37 मीटर
चौथा थ्रो 88.13 मीटर
पांचवां थ्रो फाउल
छठा थ्रो फाउल

एंडरसन पीटर्स ने गोल्ड अपने नाम किया

नीरज चोपड़ा ने चौथी कोशिश में 88.13 मीटर लंबा थ्रो किया। वहीं, ग्रेनेडा के एंडरसन पीटर्स ने गोल्ड मेडल अपने नाम किया। उन्होंने अपने आखिरी थ्रो में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 90.54 मीटर दूर भाला फेंका। चेक रिपब्लिक के जैकब वादले कांस्य पदक के साथ तीसरे नंबर पर रहे। उन्होंने अपना बेस्ट थ्रो 88.09 मीटर दूर भाला फेंका। वहीं, इस प्रतिस्पर्धा में पाकिस्तान के अरशद नदीम भी शामिल थे। वो पांचवे स्थान पर रहे। उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 86.16 मीटर का था।
नीरज वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में सिल्वर जीतने वाले पहले एथलीट

39 साल से चल रही वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भारत का गोल्ड जीतने का सपना पूरा नहीं हो पाया। उसे सिल्वर से संतोष करना पड़ा। 19 साल बाद देश को इस चैंपियनशिप में कोई मेडल मिला है। नीरज से पहले अंजू बॉबी जार्ज ने लॉन्ग जंप में 2003 में ब्रॉन्ज जीता था। नीरज इस चैंपियनशिप में सिल्वर जीतने वाले पहले भारतीय एथलीट बन गए हैं। साथ ही वे पहले भारतीय पुरुष एथलीट हैं, जिन्होंने इस चैंपियनशिप में कोई मेडल जीता है।

नीरज ने ओलिंपिक्स में दिलाया था गोल्ड

नीरज ने पिछले साल ओलिंपिक में 120 सालों का सूखा खत्म किया था और भारत के लिए ट्रैक एंड फील्ड में गोल्ड मेडल लाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने थे। वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप का आयोजन पहली बार 1983 में किया गया था।

क्वालिफायर का प्रदर्शन नहीं दोहरा सके नीरज

क्वालिफायर इवेंट में नीरज ने पहले ही थ्रो में 88.39 मीटर स्कोर करते हुए फाइनल में जगह बनाई थी। क्वालिफिकेशन ग्रुप ए में वह पहले और ओवर-ऑल दूसरे स्थान पर रहे। फाइनल में उनका प्रदर्शन क्वालिफायर जैसा नहीं था। फाइनल में उनका बेस्ट 88.13 मीटर रहा। जेवलिन थ्रो इवेंट में एक अन्य भारतीय रोहित यादव दसवें स्थान पर रहे। रोहित ने 78.72 मीटर का भाला फेंका था।

पिछली बार चोट के कारण नहीं खेल सके थे नीरज

24 साल के भारतीय स्टार पिछले सीजन में कोहनी की सर्जरी के कारण नहीं उतरे थे। साथ ही 2017 के सीजन में वे फाइनल के लिए क्वालिफाई नहीं कर सके थे। उन्होंने 82.26 मीटर का स्कोर किया था।

Back to top button