अपने फोन से फौरन डिलीट करें 7 मैलिशस ऐप्स, Google और Apple ऐप स्टोर से हटाए गए

नई दिल्ली
मैलिशस ऐप्स के बारे में लगातार जानकारी सामने आती रहती है। अब Avast की साइबरसिक्यॉरिटी रिसर्चर टीम ने 7 मैलिशस ऐडवेयर स्कैम ऐप्स का पता लगाया है। इन ऐप्स को गूगल प्ले स्टोर और ऐपल ऐप स्टोर से ऐंड्रॉयड व आईफोनयूजर्स द्वारा करीब 24 लाख बार डाउनलोड किया जा चुका है। इन ऐप्स के डिवेलपर्स अब तक करीब 500,000 डॉलर के करीब कमाई कर चुके हैं। इन ऐप्स को पॉप्युलर TikTok और Instagram जैसी प्रोफाइल्स के जरिए डाउनलोड कराया गया।

Loading...

Avast पर एक ब्लॉग पोस्ट के मुताबिक, टीम ने 3 ऐसी प्रोफाइल्स का पता लगाया जो टिकटॉक पर मैलिशस ऐप्स को तेजी से डाउनलोड करने के लिए पुश कर रहे थे। TikTok पर ऐसी ही एक प्रोफाइल पर 3 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं। रिसर्चर्स ने इंस्टाग्राम पर भी ऐसी प्रोफाइल्स का पता लगाया है। इनमें से एक पर 5000 से ज्यादा फॉलोअर्स हैं। Avast ने ऐसे 7 ऐप्स की पहचान की कर ऐपल व गूगल को इसकी जानकारी दे दी है। 

ZDNet की रिपोर्ट में बताया गया है कि ThemeZone, Shawky App Free, Shock My Friends, Ultimate Music Downloader, Free Download Music को गूगल प्ले स्टोर से हटा दिया गया है। इस बीच Shock My Friends – Satuna, 666 Time, ThemeZone, Live Wallpapers और shock my friend tap roulette v ऐप्स को ऐपल ऐप स्टोर से रिमूव कर दिया गया है।

Avast की टीम ने पता लगया कि इन ऐप्स को गेम्स, वॉलपेपर और म्यूजिक डाउनलोडर ऐप्स के तौर पर डिवेलप किया गया है ताकि युवाओं को टारगेट किया जा सके। ये ऐप्स बार-बार पॉप-अप शो करते हैं जिससे यूजर्स को अतिरिक्त सर्विसेज के लिए 2 से 10 डॉलर के बीच चार्ज करना पड़ता है। इनमें से कुछ ऐप्स ऐड भी दिखाते हैं जो पूरी स्क्रीन पर आ जाते हैं और यूजर्स को जबरन क्लिक करना होता है। इन दोनों तरीकों से ये डिवेलपर्स रेवेन्यू जेनरेट करते हैं।Avast के थ्रेट ऐनालिस्ट जैकब वावरा ने बताया, ‘जिन ऐप्स का हमने पता लगाया है, वे गूगल और ऐपल की ऐप पॉलिसीज का उल्लंघन करते हैं। ये ऐप्स ऐप फंक्शनालिटी को लेकर झूठे दावे या ऐप के बाहर ऐड दिखाते हैं और इंस्टॉल होने के तुरंत बाद ओरिजिनल ऐप आइकन गायब कर देते हैं।’


बता दें कि गूगल और ऐपल ऐप स्टोर्स से अधिकतर मैलिशस ऐप्स को हटा दिया गया है। लेकिन आपकी डिवाइस में ऐसा कोई ऐप मौजूद है तो उसे तुरंत डिलीट कर दें।

Loading...
loading...
E-Paper
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker