इस तरह बदलने जा रही है आपकी दुनिया

क्या लैब में पौधों से मीट बन सकता है? सुनने में शायद अजीब लगे, लेकिन कई देशों में बिल्कुल आम बात है। यह करिश्मा है दिन-ब-दिन बेहतर होती तकनीक का, जो 2021 में नए मुकाम पर पहुंच सकती है। जहां आप घर बैठे ले सकते हैं मॉल में खरीदारी का अनुभव और बारिश में टीवी चलाकर रेन-डांस का मजा। आइए नज़र डालते हैं उन पांच बड़े टेक्नॉलजी ट्रेंड पर, जिनका नए साल में रहेगा बोलबाला।

मिलेगा खरीदारी का नया अनुभव
आपको जूता खरीदना है, लेकिन इतनी कड़ाके की सर्दी में बाहर जाएं कैसे! जूता भी सही नाप का चाहिए। एकदम फैंसी जो पैरों में फबे। तो क्या सोचा? अब क्या करेंगे आप? ग्राहकों की इस तरह की मुश्किलें हल करेगी ऑगमेंटेड रियल्टी यानी एआर। इसमें कंप्यूटर के सहारे आभासी दुनिया बन सकती है, जहां आप चीज़ों को कर सकते हैं महसूस। इस रियल्टी में आप प्रॉडक्ट खरीदने से पहले आजमा सकते हैं। दोस्तों को दिखाकर उनकी राय ले सकते हैं। यह तकनीक रिटेल सेक्टर का हुलिया बदल देगी। 2021 में इसके सहारे अपना शॉपिंग मॉल ग्राहकों के घर तक पहुंचाने की कोशिश करेंगी कंपनियां। ऑनलाइन कारोबार करने वाली कंपनियां भी इस पर लगाएंगी बड़ा दांव। रिलायंस के निवेश वाला ई-कॉमर्स प्लैटफॉर्म फिंड इस तरह की सुविधा दे भी रहा है। उम्मीद है कि इस लिस्ट में एमेजॉन और फ्लिपकार्ट भी जल्द शामिल हो जाएंगी।

लैब में उगेगा मीट
लॉकडाउन के दौरान एक से दूसरे राज्य में जाने पर पाबंदी थी। गोवा में अधिकतर मीट बाहरी राज्यों से आता है, तो वहां मांस की किल्लत हो गई। उस वक़्त लोगों ने मीट का शौक़ छोड़ा सब्ज़ियां खाकर गुजारा किया। लेकिन क्या होगा, अगर पौधों से ही मीट बनने लगे? भारत में यह चीज़ सुनने में भले नई लगे, लेकिन अमेरिका जैसे देशों में पौधों से बना मीट खाने का चलन जोरों पर है। वहां इस कारोबार में मैकडॉनल्ड्स और बर्गर किंग जैसी फूड चेंस भी उतर रही हैं। भारत में भी सरकार लैब में तैयार मीट को दे रही है बढ़ावा। देश में शाकाहारी मीट का साल हो सकता है 2021। इससे मांस के लिए मारे जाने वाले जानवरों का संरक्षण भी हो सकेगा। हालांकि पौधों से बनने वाले मीट के लिए सामान्य मीट से दोगुनी क़ीमत चुकानी पड़ सकती है।

रोल होगी वॉटरप्रूफ टीवी
सैमसंग ने 2020 में द टेरेस नाम से एक टेलिविजन पेश किया। ख़ासियत थी वॉटर प्रूफ होना। इसका पूल-साइड या फिर रेन-डांस पार्टी में अच्छा इस्तेमाल हो सकता है। नए साल में और भी ब्रैंड्स की नज़र इस ट्रेंड पर होगी। रोल होने वाले टीवी पर भी कंपनियां दांव लगा सकती हैं। एलजी दुनिया का पहला रोलेबल टीवी लॉन्च कर चुकी है। दूसरे ब्रैंड भी पीछे नहीं हैं। हालांकि नए ट्रेंड्स वाले टीवी जेब पर काफी भारी पड़ेंगे। सैमसंग के वॉटर प्रूफ टीवी का दाम है करीब 2 लाख 70 हज़ार रुपये। वहीं, रोलेबल टीवी के लिए चुकाने होंगे 64 लाख रुपये। इसी तरह फोल्डेबल पीसी भी आ सकते हैं। लेनोवो 2020 में थिंकपैड एक्स1 के साथ इसकी झलक दिखा चुकी है। हालांकि यहां भी मसला भारी क़ीमत का है।

चांद पर घूमने का मौका
एक वक़्त था, जब चांद पर सिर्फ कवि और शायर अपनी कल्पनाओं में ही पहुंच पाते थे। लेकिन अब रिचर्ड बेंसन, एलन मास्क और जेफ बेजॉस जैसे रईस आम लोगों को स्पेस में भेजने की तैयारी में हैं। भारत भी बहुत पीछे नहीं। इसरो इंसानों को अंतरिक्ष में भेजने के मिशन गगनयान पर काम कर रहा है। हालांकि देश के सामान्य नागरिकों को स्पेस की सैर करने के लिए कुछ साल इंतजार करना पड़ेगा।

हेडफोन के बाद अब आंखों पर नज़र
हेडफोन के लिहाज से 2020 में सारा फोकस कान पर रहा। लोगों को कई तरह के वायरलेस ईयरबड और हेडफोन देखने को मिले। नए साल में नज़रें होंगी आंखों पर। बोस ने मिनी स्पीकर के साथ ऑडियो ग्लासेज पेश किया है। इसके सहारे आप आराम से फ़ोन पर बात कर सकते हैं। एमेजॉन के स्मार्ट ऑडियो ग्लास का इस्तेमाल कॉल करने, पॉडकास्ट सुनने और रिमाइंडर सेट करने के लिए भी किया जा सकता है। एपल भी ऑडियो ग्लासेज लॉन्च करने की तैयारी में है।

Back to top button
E-Paper