उत्तराखंड आपदाः मलबे से अब तक मिले 31 शव, दो की हुई शिनाख्त


  • मुख्यमंत्री ने रैणी गांव के आपदा प्रभावितों को दिया हरसंभव मदद का भरोसा
  • रैणी गांव में एसडीआरएफ के राहत कार्यों को लोगों ने सराहा


देहरादून। उत्तराखंड के चमोली जनपद क्षेत्र के आपदा प्रभावित इलाके में जारी रेस्क्यू ऑपरेशन के बीच मंगलवार दोपहर तक कुल 31 शव मिल चुके हैं। इनमें सिर्फ दो शवों की शिनाख्त हुई है, जो तपोवन गांव के रहने वाले लोगों के हैं। इस बीच मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने आज आपदा ग्रस्त रैणी गांव का दौरा कर हालात का जायजा लिया।

राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक कुल लापता 206 लोगों में से 175 लोगों के बारे में अभी तक कोई अता पता नहीं है। इनमें ऋत्विक कंपनी के 21, उसकी सहयोगी कंपनी के 94, एचसीसी कंपनी के 3, ओम मेटल के 21, तपोवन गांव के दो, रिंगी गांव के 2, ऋषि गंगा कंपनी के 55, करछो गांव के 2 और रैणी गांव के 6 लोग हैं। इनमें उत्तराखंड पुलिस के 2 जवान भी हैं और 25 से 35 लोगों के टनल में फंसे होने की आशंका है। जिनकी जिंदगी बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन युद्ध स्तर पर जारी है। अभी तक सुरक्षित बचाए गए लोगों में एनटीपीसी से 12 व्यक्ति हैं और 6 लोग घायल भी हैं। घायलों को जोशीमठ में आईटीबीपी के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

इलाके में एसडीआरएफ, एनडीआरएफ, आईटीबीपी, सेना, सेना की मेडिकल टीम, स्वास्थ्य विभाग, फायर विभाग, राजस्व विभाग, पुलिस, दूरसंचार, सिविल पुलिस और वायु सेना की टीमें भी इस रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी हुई हैंं। इस बीच आज सुबह एक चॉपर के माध्यम से एनडीआरएफ के 8 जवान और 3 वैज्ञानिक घटनास्थल के लिए देहरादून से रवाना हुए हैं।

मुख्यमंत्री ने लिया रैणी गांव का जायजा जायजा
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आपदा प्रभावित सीमांत गांव क्षेत्र रैणी जाकर वहां की स्थिति का जायजा लिया। उन्होंने ग्रामीणों से मुलाकात की और उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी हासिल की। मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों को हर संभव सहायता मुहैया कराने के प्रति आश्वस्त किया। उन्होंने चमोली की जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया को निर्देश दिए कि कनेक्टिविटी से कट गए गांव में आवश्यक वस्तुओं की कमी ना रहे।

उल्लेखनीय है कि रविवार को तपोवन क्षेत्र में हुई भीषण त्रासदी में जिले के जोशीमठ ब्लॉक के सीमांत क्षेत्र के 13 गांवों का सड़क संपर्क टूट गया था

रैणी गांव के लोगों ने एसडीआरएफ की सराहना की
ग्लेशियर टूटने की इस आपदा के तत्काल बाद राज्य एवं देश की अनेक एजेंसियां रेस्क्यू कार्य में जुटी हुई है। सर्चिंग कार्य के साथ-साथ टनल से मजदूरों को सुरक्षित निकालने का प्रयास भी युद्ध स्तर पर जारी है। एसडीआरएफ टीम उत्तराखंड पुलिस की सहायता एवं सर्चिंग के लिये लगातार रैणी गांव में बनी हुई है, जहां रेस्क्यू कार्यों के साथ ही ग्रामीणों के सामान को मलबे से सुरक्षित निकाला जा रहा है।

त्रासदी के बाद रैणी गांव के तमाम घरों में मलबा फंसा हुआ था, वहां एसडीआरएफ के जवानों ने मलबा हटाकर ग्रामीणों के सामान और खाद्यान्न को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया है। साथ ही ग्रामीणों से उनकी समस्या भी जानने की कोशिश की गयी। एसडीआरएफ जवानों के इस मानवीय कार्य की सराहना करके ग्रामीण इन्हें ‘उत्तराखंड के देवदूत’ नाम से भी पुकार रहे हैं। एसडीआरएफ की टीमें आपदा के पश्चात से ही प्रभावितों के सामान को सुरक्षित स्थान तक भेजने एवं खाद्यान्न उपलब्ध करा रही हैं। एसडीआरएफ के कमांडेंट नवनीत सिंह भुल्लर स्वयं घटना स्थल ओर रैणी गांव पहुंच कर एसडीआरएफ रेस्क्यू ऑपरेशन का नेतृत्व कर रहे हैं।

Back to top button
E-Paper