कांग्रेस नेताओं की धमकी- ‘किसानों से माफ़ी मांगें कंगना रनोट, वरना नहीं होने देंगे ‘धाकड़’ की शूटिंग’

बॉलीवुड की बेबाक एक्ट्रेस कंगना रनौत हमेशा अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहती हैं। एक्ट्रेस ने हाल ही में किसान आंदोलन की प्रमाणिकता को लेकर सवाल उठाए थे। इसके बाद से उन्हें सोशल मीडिया पर लगातार धमकियाँ मिली। मध्यप्रदेश के कॉन्ग्रेस नेता ने भी अब उन्हें धमकाते हुए उनकी फिल्म की शूटिंग रोकने की बात कही है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मध्य प्रदेश के बैतूल जिले के कॉन्ग्रेस नेता ने धमकी दी है कि यदि कंगना किसानों के लिए कही गई बातों पर माफी नहीं माँगती हैं तो उन्हें मध्य प्रदेश में उनकी फिल्म ‘धाकड़’ की शूटिंग नहीं करने दी जाएगी। बता दें, बैतूल जिले के सारनी इलाके में कंगना रनौत अपनी नई फिल्म धाकड़ की शूटिंग कर रही हैं।

प्रदेश कॉन्ग्रेस सेवादल के सचिव मनोज आर्य और चिचोली ब्लॉक कॉन्ग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नेकराम यादव ने बुधवार को बैतूल में तहसीलदार को एक ज्ञापन सौंपते हुए कहा कि कंगना रनौत दिल्ली में आंदोलन कर रहे किसानों को लेकर दिए गए अपने बयान पर शुक्रवार की शाम तक माफी नहीं माँगती है तो उन्हें सारनी में अपनी फिल्म ‘धाकड़’ की शूटिंग नहीं करने दी जाएगी।

कॉन्ग्रेस की इस धमकी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, भाजपा नेता और राज्य के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि प्रदेश कॉन्ग्रेस प्रमुख कमलनाथ को अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को रोकना चाहिए। उन्होंने कंगना रनौत को अपना पूरा समर्थन देने का आश्वासन दिया।

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि, “फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत को चिचोली (बैतूल) के कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा धमकाए जाने के मामले में मैंने बैतूल एसपी से चर्चा की है। मध्य प्रदेश में कानून का राज है। बेटी कंगना रनौत को किसी से डरने की जरूरत नहीं है।”

गौरतलब है कि इससे पहले भी पंजाब यूथ कॉन्ग्रेस ने किसान के विरोध पर ट्वीट करने के लिए अभिनेत्री को निशाना बनाया था और चेतावनी दी थी कि वे किसानों के दिल के भीतर की आग से ना खेले।

पंजाब यूथ कॉन्ग्रेस ने रनौत पर कटाक्ष करते हुए कहा था कि लोगों का ध्यान आकर्षित करने वाले और भाजपा के कठपुतली पंजाब की संस्कृति, विविधता और इतिहास को कभी नहीं समझेंगे। उन्होंने अत्यधिक आक्रामक और अश्लील हैशटैग का इस्तेमाल भी किया था। इसके अलावा किसान आंदोलन के खिलाफ बोलने पर कंगना के खिलाफ कई नोटिस भी जारी किए जा चुके हैं।

Back to top button
E-Paper