कौन है दीप सिद्धू? जिस पर लगे किसानों को भड़काने का आरोप

चंडीगढ़
दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा और लाल किले पर हुए प्रदर्शन के बाद किसानों ने पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू लोगों को उकसाने का आरोप लगाया है। दिल्ली में लालकिले पर निशान साहिब फहराने के बाद सिद्धू का एक वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया था, जिसमें उसने कहा, ‘हमने सिर्फ लालकिले पर निशान साहिब फहराया है जो कि हमारा लोकतांत्रिक हक है। वहां पर तिरंगा नहीं हटाया गया था।’ किसान संगठनों का कहना है कि सिद्धू के कहने पर ही प्रदर्शनकारी उग्र होकर लाल किले में दाखिल हुए थे।

‘दीप सिद्धू सनी देओल के चुनाव प्रभारी थे’
भले ही फिल्म ऐक्टर और गुरदासपुर के सांसद सनी देओल ने दीप सिद्धू से अपने रिश्ते ना होने के दावे किए हों, लेकिन यह बात जरूर है कि दीप 2019 के चुनाव में उनके चुनाव प्रभारी थे। किसान संगठनों का दावा है कि सिद्धू ने 2019 के लोकसभा चुनाव में सिद्धू के लिए गुरदासपुर में जमकर प्रचार किया था। पिछले साल दिसंबर में देओल ने सिद्धू से दूरी बना ली थी। लेकिन बड़ी बात ये कि सिद्धू और सनी के संबंध ऐसे थे, कि सनी उन्हें अपने साथ पीएम मोदी से मिलवाने दिल्ली तक ले गए थे। 28 अप्रैल 2019 को हुई मुलाकात की यह तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है।

जब अंग्रेजी में पुलिस अधिकारी से की बात
कुछ वक्त पहले सिद्धू का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। इस वीडियो में सिद्धू सिंघु बॉर्डर पर किसानों संग खड़े थे। वीडियो में वह एक पुलिस अधिकारी से अंग्रेजी में बात करते हुए भी दिखे थे। इस वीडियो के बाद पंजाब के किसानों की पढ़ाई और उनके स्टेटस को लेकर तमाम चर्चाएं भी शुरू हुई थीं।

एनआईए ने भेजा था समन
पिछले हफ्ते एनआईए ने सिद्धू को सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) मामले की जांच के सिलसिले में पेश होने के लिए समन भेजा था, जो पिछले साल 15 दिसंबर को दर्ज किया गया था। लाल किले की घटना के बाद किसान संगठन अब उससे पल्ला झाड़ रहे हैं। यहां तक कि संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने भी सिद्धू से दूरी बना ली है और उस पर किसानों को लालकिले की ओर ले जाने का आरोप लगाया। एसकेएम ने कहा कि सिद्धू सोमवार रात को एक मंच पर दिखा और भड़काऊ भाषण देकर तोड़फोड़ किया।’

लालकिले की घटना के बाद वीडियो, सनी का ट्वीट
सिद्धू ने लालकिले की घटना के बाद सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट किया था। इस वीडियो में उसने कहा था कि हमने सिर्फ लालकिले पर निशान साहिब वाला ध्वज फहराया है जो कि हमारा लोकतांत्रिक हक है। वहां पर तिरंगा नहीं हटाया गया था। इस वीडियो को लेकर भी तमाम थ्योरीज सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। वहीं दिल्ली के पूरे घटनाक्रम के बाद गुरदासपुर के बीजेपी सांसद सनी देओल ने कहा कि उनका या उनके परिवार का सनी देओल का कोई संबंध नहीं है।

Back to top button
E-Paper