फरवरी माह में आने वाला है महाशिवरात्रि का पावन पर्व, जानें कब रखना है गुरु प्रदोष व्रत

Mahashivratri Date 2020: फरवरी माह का तीसरा सप्ताह प्रारंभ हो गया है। इस सप्ताह में ही महाशिवरात्रि का पावन पर्व आने वाला है। महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव की विधि विधान से पूजा-अर्चना की जाती है। इस सप्ताह में महाशिवरात्रि के साथ कुछ अन्य महत्वपूर्ण व्रत एवं त्योहार आने वाले हैं, जिसमें विजया एकादशी, गुरु प्रदोष व्रत, अमावस्या पड़ेगी। इसके अलावा इस सप्ताह में स्वामी दयानंद सरस्वती जयंती की जयंती भी है। आइए जानते हैं कि इस वर्ष महा​शिवरा​त्रि समेत अन्य व्रत एवं त्योहार इस सप्ताह में किस दिन पड़ रहे हैं।

17 फरवरी: दिन: सोमवार: संत रामदास जयंती

Loading...

संत रामदास जयंती: इस वर्ष संत रामदास जयंती 17 फरवरी दिन सोमवार को है। संत रामदास जी ने महाराष्ट्र में भगवान राम और हनुमान जी की ​भक्ति का प्रचार प्रसार किया ​था।

18 फरवरी: दिन: मंगलवार: स्वामी दयानंद सरस्वती जयंती (तिथि के अनुसार)।

स्वामी दयानंद सरस्वती जयंती: फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की दशमी तिथि को स्वामी दयानंद सरस्वती की जयंती मनाई जाती है। दयानंद सरस्वती जी आर्य समाज के संस्थापक, आधुनिक भारत के महान चिंतक, समाज-सुधारक और देशभक्त थे। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार उनका जन्म 12 फरवरी 1824 को गुजरात के टंकारा में हुआ था।

19 फरवरी: दिन: बुधवार: विजया एकादशी।

विजया एकादशी: फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को विजया एकादशी कहा जाता है। विजया एकादशी 19 फरवरी दिन बुधवार को है। इस दिन भगवान विष्णु की विधि विधान से पूजा अर्चना की जाती है। भगवान विष्णु के आशीर्वाद से पापों का नाश होता है और कार्यों में सफलता प्राप्त होती है।

20 फरवरी: दिन: गुरुवार: गुरु प्रदोष व्रत।

गुरु प्रदोष व्रत: फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत होता है। इस बार प्रदोष व्रत 20 फरवरी गुरुवार के दिन है, इसलिए इसे गुरु प्रदोष व्रत कहा जाता है। आज के दिन भगवान शिव की आराधना करना सर्वोत्तम माना गया है।

21 फरवरी: दिन: शुक्रवार: महाशिवरात्रि।

महाशिवरात्रि 2020: इस वर्ष 2020 की महाशिवरात्रि 21 फरवरी को है। फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को महाशिवरात्रि मनाई जाती है। इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती का महा​मिलन हुआ था। इस दिन दोनों लोग विवाह के बंधन में बंधे थे। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी की रात्रि में ही भगवान शिव लिंग स्वरूप में प्रकट हुए थे, इसलिए भी इस दिन का महत्व बढ़ जाता है। महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव की पूजा विधि विधान से करते हैं और व्रत रखते हैं।

23 फरवरी: दिन: रविवार: अमावस्या।

फाल्गुन अमावस्या: फाल्गुन मास की अमावस्या इस बार 23 फरवरी दिन रविवार को पड़ रही है।

Loading...
loading...
E-Paper
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker