सामने आया बिग बी की बेटी की जिंदगी का वो सच, जो रखा गया सबसे छुपाकर

बॉलीवुड के शहंशाह कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन और उनका पूरा परिवार आज किसी परिचय का मोहताज नहीं है। देश का बच्चा बच्चा जनता है ये नाम और सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी आज उन्हें हर कोई जानता है| आपको बता दे बच्चन परिवार की एक खासियत है की इस परिवार का हर सदस्य जो नाम और शोहरत कमाया है वो केवल अपने बलबूते पर ना की किसी के सहारे जैसे की अमिताभ, अभिषेक, जया और ऐश्वर्या ये सभी सदस्य अपने हुनर और कला के दम पर काफी नाम कमा चुके हैं।

लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी की इस बच्चन परिवार की एक सदस्य ऐसी भी है जिन्हें शायद बहुत कम ही लोग जानते हो। हम बात कर रहे है अमिताभ की बेटी श्वेता नंदा जिनके बारे में आज भी बहुत कम लोग ही जान पाए है वजह है की वे इस चकाचौंध से हमेशा दूरी बना के रखी है।

आज हम आपको अमिताभ की बेटी श्वेता के ही बारे में कुछ ऐसे राज बताने वाले हैं जो शायद आप पहले से ना जानते हो। आपको बता दे श्वेता, बच्चन परिवार की सबसे पहली संतान हैं और पहली संतान होने की वजह से परिवार में शुरू से ही बहुत प्यार मिला है। श्वेता के पूरे परिवार का बॉलीवुड में इतना नाम और कनेक्शन होने के बावजूद भी फिल्मो में आपने श्वेता को शायद ही कभी फिल्मो में देखा होगा ना ही वे कभी फिल्मो में आने के बारे में सोचती हैं क्योंकि श्वेता कभी भी आपने पिता की पोजीशन का फायदा उठाकर अभिनेत्री बनने के बारे में नहीं सोची हैं। शेवेता भले ही आज एक अभिनेत्री ना बन पाई लेकिन वो एक सच्ची गृहिणी जरुर साबित हो चुकी हैं।

एक इंटरव्यू के दौरान जब श्वेता से एक्टिंग ना करने के बारे में पूछा गया तब श्वेता ने कहा की उन्हें कैमरा फेस करने में डर लगता हैं उन्होंने यह भी कहा कि “मुझे आज तक कोई फिल्म का ऑफर आया ही नहीं शायद मेरी शक्ल और आवाज़ बिलकुल भी हिरोइन जैसी नहीं हैं। मुझे इसीलिए आज मैं जहाँ हूँ, जो कर रही हूँ, उसी में खुश हूँ।”श्वेता कहती हैं कि मुझे हाउस वाइफ बनना अच्छा लगता हैं। मैं रोज सुबह उठकर बच्चों को स्कूल के लिए तैयार करती हूँ, पति का नाश्ता बनाती हूँ और घर के अन्य कामो को देखती हूँ यही मेरी जिंदगी की सबसे बड़ी जिम्मेदारी है।

श्वेता ने करीब 10 साल तक हाउस वाइफ बने रहने के बाद अब जाके अपने करियर को सवारने के बारे में सोचना शुरू कर दिया है और इसीलिए आज श्वेता आपने परिवार को सिर्फ घरेलु रूप से ही नहीं बल्कि आर्थिक रूप से भी सपोर्ट करने में सक्षम हैं।

Back to top button
E-Paper