मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अन्तर्गत 101 जोड़े बंधे शादी के बंधन में


– सरकार शिक्षा, स्वास्थ्य के साथ-साथ गरीब की बेटी की शादी कराने की योजना लागू की है – डीएम
-सामुहिक शादी का कार्यक्रम आप सबको ताउम्र याद रहेगा- एसपी

मैनपुरी – मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अन्तर्गत आज 101 जोड़ों की शादी श्रीदेवी मेला एवं ग्राम सुधार प्रदर्शनी के भव्य पंडाल में सम्पन्न हुयी, नव दम्पत्ति को जिलाधिकारी महेन्द्र बहादुर सिंह, पुलिस अधीक्षक अविनाश पाण्डेय ने सपरिवार सहित आशीर्वाद देते हुये सफल वैवाहिक जीवन की शुभकामनाएं दीं। जिलाधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अन्तर्गत गरीब परिवार की बेटियों की शादी भव्य समारोह में कराई जा रही हैं, इस योजना के लागू होने से अब गरीब परिवार में बेटियां बोझ नहीं है, उनके अभिभावकों को बेटी की शादी की चिंता से मुक्त कराने का कार्य सरकार ने किया है, अब गरीब परिवार की बेटियों की शादी का जिम्मा सरकार ने अपने ऊपर लिया है, गरीब बेटी की शादी में सरकार द्वारा 51 हजार रू. व्यय किये जा रहे हंै, जिसमें से 30 हजार रू. लड़की के खाते में जमा कराया जा रहा है, शेष 14 हजार रू. से शादी का सामान एवं 6 हजार से शादी में आने वाले वर-वधु पक्ष के लोगों के खानपान व  अन्य इंतजाम पर खर्च किये जा रहे हंै।


          डीएम ने वर-वधु को आशीर्वाद देते हुये कहा कि आज गरीब परिवार में कन्या बोझ नहीं है, प्रदेश सरकार ने अब गरीब माॅ-बाप के कंधों से बेटी के हाथ पीले करने का बोझ भी कम कर दिया है। प्रदेश सरकार शिक्षा, स्वास्थ्य के साथ-साथ गरीब की बेटी की शादी कराने की योजना लागू की, जिसका लाभ सीधे गरीब परिवारों को मिल रहा है। उन्होने कहा कि आपकी शादियों के गवाह जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ अधिकारी बने और अधिकारियों ने ही बाराती, घराती का फर्ज निभा कर बेटियों को रुखसत कराया है, जिला प्रशासन आपके सहयोग के लिए रहेगा, आप मिल-जुलकर खुशी से अपना जीवन यापन करें।


      पुलिस अधीक्षक अविनाश पाण्डेय ने नव दम्पत्ति को आशीर्वाद देते हुये कहा कि आप सबकेे जीवन में यह अनोखा पल है, एक ही मंडप में बड़ी संख्या में एक साथ शादी का कार्यक्रम आप सबको ताउम्र याद रहेगा। उन्होने कहा कि सामूहिक विवाह जहां एक ओर गरीब माॅ-बाप के कंधों से बेटी के फर्ज से अदा होने में सहायक है वहीं दूसरी ओर सामाजिक समरसता के लिए मिसाल है, एक ही छत के नीचे हिदूं-मुस्लिम रीति-रिवाज से गरीब कन्याओं की शादी अनूठी पंरपरा है।
     जिला समाज कल्याण अधिकारी डा. इन्द्रा सिंह ने बताया कि आज आयोजित सामूहिक विवाह के तहत देवी मेला पंडाल में एक ही छत के नीचे 87 हिंदू, 14 मुस्लिम जोड़ों की शादी हिन्दू-मुस्लिम रीति-रिवाज से हुईं, एक ओर जहाॅ मन्त्रोच्चारण के साथ एक दूसरे के साथ जीवन भर साथ रहने की रस्म अदा हुई वहीं दूसरी ओर कुरान की आयतों के साथ निकाह की रस्म अदायगी कराई गई। उन्होने बताया कि योजना के तहत कन्या के खाते में 35 हजार रू. की धनराशि भेजी गयी, 10 हजार रू. का सामान उपहार स्वरूप भेंट किये गये, शेष 6 हजार रू. शादी की व्यवस्थाओं, खान-पान पर व्यय हो रहा है।


      इस अवसर पर जिलाधिकारी की धर्मपत्नी अल्पना प्रकाश, बेटी मायरा, मिशिका, मुख्य विकास अधिकारी ईशा प्रिया, उप जिलाधिकारी सदर ऋषिराज, अध्यक्ष नगर पालिका परिषद मनोरमा देवी, अध्यक्ष नगर पंचायत ज्योंति खुड़िया नवाब सिंह, जिला विद्यालय निरीक्षक मनोज वर्मा, जिला कार्यक्रम अधिकारी अरविन्द कुमार, अधिशाषी अधिकारी मैनपुरी, कुरावली, भोगांव, बेवर, लाल चन्द्र भारती, कल्पना बाजपेयी, आर.के. सिंह, प्रभारी निरीक्षक महिला थाना एकता सिंह, भूमि संरक्षण अधिकारी विजय कुमार, डीओपीबीडी सुल्तान सिंह, खंड विकास अधिकारियों सहित अन्य अधिकारी, गणमान्य व्यक्ति, जन-प्रतिनिधि आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन अपर सांख्यिकी अधिकारी डा. मुनीश कुमार ने किया।

Back to top button
E-Paper