लॉकडाउन : मुरादाबाद में स्वास्थ्य कर्मी और पुलिस पर पथराव, चार जख्मी-देखे VIDEO

कोरोना से मृत व्यक्ति के परिवार को क्वारें​टाइन करने के लिए पहुंची थी टीम
– मुख्यमंत्री ने कहा, दोषियों पर होगी एनएसए के तहत कार्रवाई

दीपक वरुण
मुरादाबाद, 15 अप्रैल (हि.स.)। जनपद के नागफनी स्थित नवाबपुरा मस्जिद हाजी नेब इलाके में कोरोना संदिग्ध लोगों को लेने पहुंची डॉक्टरों की टीम और पुलिस पर पथराव कर दिया गया। स्थानीय लोगों की पत्थरबाजी में एक चिकित्सक और तीन पुलिस कर्मी घायल हो गये। इस हमले में एम्बुलेंस और पुलिस के दो वाहन पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हुए। सूचना पाकर पहुंचे ​डीएम व एसएसपी ने लोगों को समझाने का प्रयास किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूरी घटना को संज्ञान में लेकर निर्देश दिया है कि दोषियों को चिन्हित कर इनके खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई की जाये।

डीएम राकेश कुमार के मुताबिक, सोमवार की देर रात तीर्थांकर मेडिकल यूनिवर्सिटी में निजामुद्दीन के तब्लीगी जमात में शामिल हुए एक 49 वर्षीय कोरोना संक्रमित की मौत हो गई थी। इसके बाद बुधवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम स्थानीय पुलिस के साथ मृतक के परिवार को क्वारेंटाइन कराने के लिए पहुंची। टीम के लोग जब परिवार के सभी सदस्यों को वाहन में बैठाने लगे, तभी आसपास के लोग इकट्ठा हो गये और टीम पर पथराव कर दिया। भीड़ का कहना था कि क्वारेंटाइन सेंटर में खाना नहीं दिया जा रहा है। ऐसे हालात में हम अपने लोगों को क्वारेंटाइन सेंटर नहीं भेजेंगे। पथराव में डॉक्टर और तीन पुलिस कर्मी घायल हुये हैं। वाहन पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गये।\

सूचना पर डीएम राकेश कुमार सिंह, एसएसपी अमित पाठक, एसपी सिटी अमित कुमार आनंद भी मौके पर पहुंचे और लोगों को शांत कराया। डीएम और एसएपी ने शहर इमाम सैयद मासूम अली आजाद के साथ मिलकर क्षेत्रीय लोगों से घरों के अंदर जाने की अपील की। तनाव के मद्देनजर इलाके में भारी फोर्स तैनात कर दी गई है।

मुख्यमंत्री ने लिया संज्ञान
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुरादाबाद की घटना को संज्ञान में लेकर कहा कि पुलिस कर्मियों व स्वास्थ्य कर्मियों पर हमला एक अक्षम्य अपराध है, जिसकी घोर की निंदा की जाती है। ऐसे दोषियों के खिलाफ आपदा नियत्रंण अधिनियम तथा राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की जायेगी। उनके द्वारा की गयी राजकीय सम्पत्ति के नुकसान की भरपाई उनसे सख्ती से वसूल की जायेगी।

आरोपितों पर होगी रासुका के तहत कार्रवाई
हमले की घटना को लेकर उत्तर प्रदेश के कानून एवं व्यवस्था पीवी रामाशास्त्री ने बताया कि मौके पर डीएम और एसएसपी पहुंचे हैं। उन्होंने वहां के लोगों को समझाया है, स्थिति पूरी नियंत्रण में हैं। पुलिस ​कर्मियों व डॉक्टर पर हमला करना जघन्य अपराध है और दोषियों को चिन्हित कर उनके खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की जायेगी।

Back to top button
E-Paper