सरकारी उपेक्षा का हो रहा शिकार ग्रामपंचायत में लगी पानी की टंकी बूँद-बूँद पानी को तरस रहे लोग

विशेश्वरगंज/बहराइच l विशेश्वरगंज ग्रामीणों को स्वच्छ जल उपलब्ध कराने के उद्देश्य से  तहसील पयागपुर अंतर्गत झुरिकुइयाँ गांव में लाखों रुपये खर्च कर बनवाई गई पानी की टंकी महज शो-पीस बनकर रह गई है। निर्माण होने के बाद भी जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते करीब दो माह से टंकी का समर्सेबल खराब होने के बाउजूद अभी तक सही न कराने से लोग स्वच्छ पानी पीने को तरस रहे है वहीं उपयोग में न आने से टंकी के अस्तित्व पर भी खतरा मंडराने लगा है।

ताजा मामला जनपद मुख्यालय से महज 40 किमी की दूरी पर स्थित विकास खंड विशेश्वरगंज अंतर्गत ग्रामसभा झुरिकुइयाँ का है जहाँ के ग्रामीण इस समय बूंद-बूंद पानी को तरस रहे हैं। सरकार ने पेयजल संकट से निपटने और ग्रामीणों को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने के उद्देश्य से राष्ट्रीय पेयजल योजना के अन्तर्गत इस टंकी का निर्माण एक जिम्मेदार कार्य कार्यदायी संस्था द्वारा कराया था।जिसके निर्माण में लगभग दो वर्ष का समय लगा था और बड़ी धनराशि भी खर्च की गयी थी।सरकार की मंशा के अनुरूप कस्बा सहित ग्राम बाबपुरवा रमचक्का सीताराम पुरवा लखनपुर महादेव परसिया व ग्रामसभा जमुनहा कला  मजरे के कई घरों में स्वच्छ पानी  सप्लाई की जाती थी। जिसके लिए गाँवों में पाइप लाइन बिछाकर कनेक्शन प्वाइंट भी बना दिए गए पर लीगल तौर पर कनेक्शन किसी को नहीं दिया गया। पर अब करीब दो माह से पानी टंकी का पंप खराब पड़ा है जिसका कोई सुध खबर लेने वाला नही है।

कई बार ग्रामीणों के शिकायत करने पर क्षेत्रीय विधायक के फोन करने पर विभागीय लोगो के द्वारा पम्प खोल कर बनवाने को कहकर लेकर चले गए पर महीनों बीत जाने के बाउजूद अभी तक पम्प सही नही हो पाया जिससे ग्रामीणों को स्वच्छ पानी मिलने में काफी परेशानी हो रही है।संवाददाता ने इस सम्बंध में ग्रामीणों से जानकारी लेनी चाही तो ग्रामीण के०एन०द्विवेदी ने बताया कि करीब डेढ़ माह से खराब पड़ा है जिसको कर्मचारी बनवाने के लिए खोल तो ले गए पर अभी तक उसको बनवाकर लाये नही जिससे पानी के लिए ग्रामीणों को काफी समस्या हो रही है।इस बारे में जब अधिशाषी अभियंता जल निगम से बात की गई तो उन्होंने बताया कि उपरोक्त पम्प से हम लोगों का कोई मतलब नही है हमारे विभाग के द्वारा उसे ग्रामपंचायत को हैंडओवर कर दिया गया है। लेकिन क्षेत्रीय विधायक के कई बार कहने पर हमने उसका पंप खुलवाकर लखनऊ में बनने के लिए भेज दिया है

एक हफ्ते में बन कर आ जाएगा उसे लगवा दिया जाएगा। वहीं जब इस सम्बंध में पंचायत सचिव योगेश कुमार यादव से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हमे टंकी व  पम्प के बारे में कुछ पता नही इस मामले के लिए प्रधान जी जाने।पानी टंकी के हैंडओवर के बारे में पूँछने पर बताया कि इस बारे में मुझे कोई जानकारी नही है। इस संबंध में ग्राम प्रधान झुरिकुइयाँ से बात करने की कोशिश की गई तो फोन स्विच आफ बता रहा था। ऐसे में बड़ा सवाल यह कि जिम्मेदारों के द्वारा अपनी जिम्मेदारी का इस तरह से पालन करना कहीं न कहीं सरकार के कार्यों के प्रति उनकी उदासीनता को दर्शाता है।

Back to top button
E-Paper