22 जनवरी को होगा कोविड-19 टीकाकरण का द्धितीय चरण


– पहले चरण में छूटे स्वास्थ्य कर्मियों का भी हो सकेगा टीकाकरण

मुकेश चतुर्वेदी
मैनपुरी – कोरोना के वैक्सीनेशन के दूसरे चरण के लिए सरकार ने गाइडलाइन जारी कर दी है। मिशन निदेशक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की ओर से इस संबंध में सीएमओ को दिशा निर्देश भेजे गए हैं। दिशा निर्देश में कहा गया है कि 16 जनवरी को टीकाकरण कार्यक्रम आयोजित किया गया था। अब जनपद में 22, 28 और 29 जनवरी को उपलब्ध वैक्सीन के अनुसार सत्रों का आयोजन करके टीकाकरण कराया जाए। आवंटित कुल वैक्सीन में से 10प्रतिशत वेस्टेज को हटाकर जो मात्रा शेष बचेगी, उस मात्रा के आधे लाभार्थियों के लिए सत्र आयोजित किए जाएंगे। हर हाल में प्रत्येक लाभार्थी के लिए दूसरी डोज सुरक्षित रखने के निर्देश भी स्वास्थ विभाग द्वारा दिए गए हैं।

मिशन निदेशक ने 22, 28 और 29 जनवरी को वैक्सीन की मात्रा के अनुसार मैनपुरी में 12 सत्रों का आयोजन करने के निर्देश दिए हैं। प्रत्येक सत्र में 100 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। 16 जनवरी को जिन स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण होना था, लेकिन किसी कारणवश नहीं हो सका था उनका टीकाकरण भी इन्हीं तिथियों में किया जा सकेगा। सीएमओ डॉ0 ए.के. पाण्डेय ने बताया कि जनपद में 16 जनवरी को 180 का टीकाकरण हो गया था, जो लोग वंचित रह गए हैं उनके लिए 22, 28 और 29 जनवरी को वैक्सीनेशन कार्यक्रम होगा, उनमें टीके लगवा सकते हैं। इस संबंध में दिशानिर्देश का पालन कराने की तैयारी शुरू कर दी गई हंै।


28 दिन के अंतराल में दो टीके जरूरी
स्वास्थ मंत्रालय ने टीकाकरण को लेकर सवालों के जवाब दिए हैं। जानकारी दी गई है कि प्रत्येक व्यक्ति को 28 दिन के अंतराल पर पांच-पांच एमएल की दो डोज दी जाएंगी। टीकाकरण की दूसरी डोज लेने के बाद 2 सप्ताह के अंदर शरीर में एंटीबॉडी विकसित होने की बात कही गई है। प्रत्येक लाभार्थी को टीकाकरण की जानकारी मोबाइल नंबर या एसएमएस भेज कर दी जाएगी।
पहचान अनिवार्य तभी लग सकेगा टीका
स्वास्थ्य मंत्रालय ने टीकाकरण के लिए लाभार्थी का पंजीकरण अनिवार्य किया है। ड्राइविंग लाइसेंस, मतदाता पहचान पत्र, पैनकार्ड, पासपोर्ट, पेंशन दस्तावेज, मनरेगा कार्ड, बैंक डाकघर की पासबुक, प्राइवेट कंपनियों के पहचान पत्र को दिखाकर पंजीकरण किया जा सकता है। बिना पंजीकरण के टीका नहीं लगेगा। कैंसर, मधुमेह, उच्च रक्तचाप के मरीजों को कोरोना का अधिक खतरा रहता है, इसलिए इन बीमारियों से जुड़े लोगों को कोरोना टीमा जरूर लगवाना होगा।

Back to top button
E-Paper