सीतापुर : 11 दिन कराया अनुष्ठान, पंडितों को दक्षिणा में दिए नौ लाख के नकली नोट

  • गीता पाठक आश्रम से पुलिस ने बरामद किए भारी मात्रा में नकली नोट, फरार हुई आश्रम संचालिका
  • जमीन में गड़े धन को पाने के लालच में कराया जा रहा था अनुष्ठान
  • दक्षिणा में नकली नोट पाने के बाद पुरोहितों ने फोड़ा भांडा
  • आश्रम संचालिका पर दर्ज हैं कई जिलों में अपराधिक मामले

महमूदाबाद, सीतापुर। रामपुर मथुरा थानाक्षेत्र की ग्राम टेरवा मनिकापुर में स्थित आश्रम में पुलिस ने भारी मात्रा में नकली नोटों का जखीरा बरामद किया है। पुलिस की छापामार कार्रवाई के बाद आश्रम संचालिका फरार बताई जा रही है। आश्रम की फरार संचालिका पर विभिन्न थानों में भी मुकदमें दर्ज होना बताया जा रहा है। नकली नोटों का मामला उस वक्त सामने आया जब जमीन में गड़ा धन पाने के लालच में कराए गए अनुष्ठान के बाद में पुरोहितोें को दक्षिणा वितरित की गई। दक्षिणा के रूप में पुरोहितों को दिए पांच लाख तिरेपन हजार के नोट जब नकली निकले तो सभी के होश उड़ गए। जब पुरोहितों ने आश्रम संचालिका से शिकायत की तो वह कुल्हाड़ी लहराती हुई वहां से फरार हो गई।

पुरोहितों ने आनन-फानन में 112 डायल किया। सूचना मिलते ही सीओ रवि शंकर प्रसाद, थानाध्यक्ष रामपुर मथुरा पुलिसबल के साथ मौके पर पहुंचे और मामले की जांच शुरू की। पुलिस को महिला की दो गाड़ियों से भी लाखोें रुपए भी बरामद हुए हैं।


रामपुर मथुरा थानाक्षेत्र की ग्राम टेरवा मनिकापुर निवासिनी गीता पाठक पत्नी हुलासीराम अपने पुराने निजी स्कूल में करीब पंद्रह वर्षों से गीता पाठक के नाम से आश्रम चला रही थीं। आश्रम में प्रतिवर्ष श्री शतचंडी महायज्ञ का आयोजन होता है। वर्ष भर कई अन्य अनुष्ठान भी आश्रम में होते रहते थे। गीता पाठक को किसी ज्योतिष ने सलाह दी कि 71 दिन से चल रहे पूजन-अर्चन कार्यक्रम के बाद 11 दिन का अनुष्ठान करवाने से जमीन में गड़े खजाने की प्राप्ति होगी। जल्दी धन पाने की चाहत में पहले 71 दिन पूर्व गीता पाठक ने अपने आश्रम पर हवन-पूजन शुरू करवाया। इसके बाद 11 दिनों तक धार्मिक अनुष्ठान आयोजित हुआ।

अनुष्ठान को संपन्न करवाने के लिए अयोध्या से 40 तथा नैमिषारण्य से 12 पुरोहित बुलाए गए थे। अनुष्ठान जब बुधवार की रात संपन्न हुआ तो गीता पाठक ने एक लाल रंग की पालीथीन में भरकर दक्षिणा के रूप में पांच लाख तिरपन हजार रुपए की राशि के दो हजार, पांच सौ, दो सौ, एक सौ व पचास-पचास के नोट दे दिए। पुरोहितों ने आपस में जब बंटवारे के लिए पालीथीन से नोट निकाले तो उनके होश उड़ गए।

पालीथीन में मनोरंजन बैंक आफ इंडिया लिखे बच्चों के खेलने वाले वाले नकली नोटों की गड्डी निकली। नकली नोटों की गड्डियों पर ऊपर-नीचे एक-एक असली नोंट लगा होना भी बताया जा रहा है। नकली नोेंट देखते ही पुरोहितों के होश उड़ गए। पुरोहितों ने जब गीता पाठक के पास जाकर नकली नोंट दिखाकर दक्षिणा मांगनी शुरू की तो वह कुल्हाड़ी लहराते हुए भाग निकली। आश्रम में गीता पाठक की दो चैपहिया गाड़ियां भी खड़ी हैं। सूचना मिलते ही रामपुर मथुरा थानाध्यक्ष सुरेश चंद्र मिश्र मयफोर्स मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी उच्चाधिकारियों को दी। सूचना पर सीओ महमूदाबाद रवि शंकर प्रसाद ने मौके पर पहुंचकर मुआयना किया।

आश्रम संचालिका पर दर्ज हंैं गैर जिलों में मुकदमें
आश्रम की संचालिका बेहद शातिर किस्म की महिला है। इस पर सीतापुर ही नहीं बल्कि गैर जनपदों में भी कई मुकदमें दर्ज है। सीओ ने बताया कि गीता पाठक पर सीतापुर, गोंडा, बहराइच, लखनऊ सहित कई अन्य जनपदों में धोखाधड़ी के केस दर्ज हैं। आश्रम में खड़ी गाड़ियों से भी रकम बरामद होना बताया जा रहा है। सीओ रविशंकर प्रसाद ने बताया कि आरोपी महिला पर केस दर्ज किया जा रहा है। अन्य जनपदों में कहां-कहां मुकदमें दर्ज हैं तथा इस महिला से किन-किन लोगों से संबंध हैं, इसकी भी तहकीकात की जा रही है।

Back to top button
E-Paper