नये बनाये जा रहे परियोजनाओं में चहारदीवारी अवश्य शामिल किया जाए: मण्डलायुक्त


० आयुक्त ने 50 लाख से अधिक निर्माणाधीन परियोजनाओं के प्रगति की गयी समीक्षा
० देवभूमि में कार्य करने का अवसर, पूरी पारदर्शिता व गुणवत्ता के साथ करें कार्य
० सीएनडीएस, पैक्सपेड व आवास विकास निर्माण एजेसियों का पॉच-पॉंच कार्यो का आयुक्त करेंगे  निरीक्षण
भास्कर ब्यूरो, मिर्जापुर। 
आयुक्त विन्ध्याचल मण्डल योगेश्वर राम मिश्र ने सोमवार को अपने कार्यालय के सभागार में मण्डल में 50 लाख से उपर की निर्माणाधीन परियोजनाओं के प्रगति की समीक्षा के दौरान उपस्थित अधिकारियों से कहा कि देव भूमि में कार्य करने का सुनहरा अवसर सभी को प्राप्त हुआ है, सभी लोग पूरी पारदर्शिता वपरियोजनाओं में गुणवत्ता बनाये रखते हुये कार्य करें तो स्व्यं को काफी संतुष्टि महसूस होगी। मण्डलायुक्त ने कहा कि समीक्षा के दौरान कहा कि आवास विकास निर्माण एजेंसी, पैक्सपेड वं सीएनडीएस के पॉंच-पॉच कार्यो को वे स्वयं लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभ्यिन्ता एवं एक फाइनेसियल विभाग के अधिकारी के साथ निरीक्षण करेंगें।

उन्होंने बैठक में उपस्थित जिलाधिकारी मीरजापुर प्रवीण कुमार लक्षकार व जिलाधिकारी भदोही राजेन्द्र कुमार से भी कहा कि वे भी अपने जनपद भ्रमण के दौरान परियोजनाओं के गुणत्त की जॉंच करें। मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि अपने-अपने जनपद में निर्माणाधीन सभी परियोजनाओं का निरीक्षण करें तथा गुणवत्ता को बरकरार रखना सुनिश्चित करायें। उन्होंने कहा कि निर्माणाधीन परियोजनाओं की गुणवत्ता के प्रति शासन काफी गम्भीर ह।ै अतएव गुणवत्ता के साथ किसी स्तर पर लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। आयुक्त ने अधिकारियों से कहा कि जिन परियोजनाओं की प्रगति 94 से 99 प्रतिशत दर्शाया गया है उसे तत्काल पूर्ण कराते हुये सम्बंधित विभाग को हैण्डओवर कराये। उन्होंने सभी कार्यदायी संस्थओं से कहा कि यदि कहीं जमीन का विवाद हो या जमीन की उपलब्धता की समस्या हो तो सम्बंधित जिलाधिकारी से व्यक्तिगत रूप से मिलकर हल कराना सुनिष्चित करायें तथा अनारम्भ कार्यो को तत्काल पूर्ण करायें। आयुक्त ने कहा कि प्रायः प्रोजेक्ट बनाने समय बाउड््रीवाल का प्रस्ताव छोड दिया जाता है जिसके कारण बाद में धनराशि की उपलब्धता नही हो पाजी है कहा कि परियोजना बनाने समय ही बाउड््रीवाल का प्रस्ताव में अवश्य शामिल किया जाए।


        आयुक्त द्वारा समीक्षा के दौरान 33 ऐसे परियोजनाओे की समीक्षा सबसे पहले की जिसमें धनराशि की उपलब्ध होते हुये भी अपूर्ण दिखाया जा रहा है। जनपद मीरजापुर में में निर्माणाधीन ड््राइविंग ट््रेनिंग इंस्टीट्यूट भवन के दौरान 90 प्रतिशत की पूर्णता पर बताया गया मुख्य विकास अधिकारी को निरीक्षण कर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया गया। इसी प्रकार आई0टी0आई0 परिसर में मोटर मैकिनेकल,  की 60 प्रतिशत की प्रगति पर अधिशासी अभ्यिन्ता सीएनडीएस के द्वारा यह बताये जाने पर कि शत प्रतिशत पूर्ण करा लिया गया है, आयुक्त ने कहा कि बुलकेलट में 60 प्रतिशत दिखाया गया है आज मौके पर जाकर जॉ।च कर रिपोर्ट दें तथा जॉं करते भवन की स्थिति का फोटोग्राफ भी भेजे। समीक्षा बैठक में राजकीय माडल स्कूल मेडरढह सोनभद्र के बारे में 80 प्रतिशत बताया गया, आयुक्त द्वारा कहा गया कि इसकी जॉंच उनके द्वारा स्वंय टेक्निकल टीम के साथ किया जोयगा।

जनपद मीरजापुर में धैहा, संतनगर व खटखरिया में स्वास्थ्य आवास भवन के बारे में बताया गया कि आवास विकास निर्माण निपग के द्वारा बनाया जा रहा है, संतनगर में जून माह के बाद आज भी मात्र 77 प्रतिशत की प्रगति दिखये जाने पर आयुक्त ने जिलाधिकारी से कहा कि वे इसी जॉंच करायें यदि अपेक्षित प्रगति नहीं लायी जाती है तो सम्बंधित एजेसी के विरूद्ध एफ0आर0आर0दर्ज कराकर कार्यवाही करें।

समीक्षा बैठक में विन्ध्याचल में गंगा नदी किनारे पक्का स्नानघाट, समेकित पर्यटन, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मुडपेली, राजकीय रेशम प्रशिक्षण केन्द्र अहरौरा, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र रिजूल सोनभद्र, राजकीय पालीटेक्निक मीरजापुर, वीवीपैड भण्डारण मीरजापुर, मल्टीपरपज सीड स्टोर खुटहॉं मीरजापुर, पशु चिकित्सा पालीक्लीनिक भदोही कस्तूरबा गांधी आलिका छात्रावास खरूआव सोनभद्र, वृहद गौ शाला संरक्षण केन्द्र भदोही, जनपद न्यायाधीश भदोही, राजकीय महाविद्यालय पौनीकला सोनभद्र सहित कुल 33 परियोजनाओं के प्रगति की समीक्षा की। आयुक्त ने कहा कि गुणवत्ता बरकरार रखें तथा कार्यो को समय से पूरा करें। इस अवसर पर जिलाधिकारी मीरजापुर श्री प्रवीण कुमार लक्षकार, जिलाधिकारी भदोही राजेन्द्र कुमार, मुख्य विकास अधिकारी मीरजापुर श्री अविनाश सिंह, सीडीओ सोनभद्र, अपर आयुक्त प्रशासन, श्री रमेश चन्द्र, संयुक्त विकास आयुक्त श्री सुरेश चन्द्र मिश्र, व सभी परियोजनाओं के सम्बंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Back to top button
E-Paper