UP : गाड़ी लूटने के लिए ट्रेवल्स ड्राइवर की हत्या कर लाश नहर में फेंकी, 4 दिन बाद इस हालत में मिली लाश

 कानपुर। उत्तर प्रदेश के कानपुर स्थित कल्याणपुर इलाके से अपहृत ट्रैवल्स मालिक की हत्या कर शव को नहर में फेंकने की वारदात का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। इस मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। हालांकि जिन आरोपियों को पुलिस पकड़ने का दावा कर रही है, वो खुद को निर्दोष बता रहे हैं।

बिठूर थानाक्षेत्र के बगदौधी बांगर में रहने वाला 30 वर्षीय अमित यादव ट्रेवल्स की गाड़ियां चलाता था। शुक्रवार 19 फरवरी को दो अज्ञात लोगों ने रसूलाबाद जाने के लिये उससे गाड़ी बुक कराई थी। इस बुकिंग के बाद से वह लापता हो गया था। इस बीच अमित ने अपनी पत्नी को कॉल किया और जानकारी दी कि जिन लोगों ने गाड़ी बुक की है, वह ठीक लोग नहीं हैं और उनके पास तमंचा भी है। पति की जान खतरे में होने के चलते पत्नी रेखा ने कल्याणपुर थाने में पति के अपहरण होने की तहरीर दी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर तीन टीमों को खोजबीन के लिए लगाया था। 

नहर में मिला था अमित का शव

सीओ कल्याणपुर दिनेश कुमार शुक्ला के नेतृत्व में लगी पुलिस की टीमें सोमवार 22 फरवरी तक अपहृत अमित को खोजने में नाकाम रही। उसका शव कानपुर देहात के रूरा इलाके की एक नहर में मिला। ट्रेवल्स मालिक की हत्या का पता चलते ही कानपुर पुलिस के होश फाख्ता हो गए। आनन-फानन में पुलिस ने घटना से जुड़े दो लोगों को औरैया जनपद से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार आरोपियों में ऑटो चालक देवेन्द्र और उसका दोस्त प्रभात हैं। दोनों ही ने मीडिया के सामने खुद को निर्दोष बताया।

लूट के इरादे से ड्राइवर को उतारा मौत के घाट

पुलिस लाइन में इस घटना का खुलासा करते हुए एसपी पश्चिम डॉ अनिल कुमार ने बताया कि ट्रैवल्स मालिक की हत्या गाड़ी लूटकर बेचने के इरादे से की गई है। साजिश के तहत ही कानपुर देहात के रसूलाबाद के चाट निवादा निवासी प्रद्युमन गुप्ता उर्फ गोविन्द पंजाब से 18 फरवरी की रात कानपुर देहात आया। फिर उसने पहले से परिचित ऑटो चालक देवेन्द्र को कॉल कर बुलाया। 

आरोपीने रात का हवाला देकर वो उसके पास ही रुक गया। यहां उसकी मुलाकात देवेन्द्र के दोस्त प्रभात से हुई। अगली सुबह ऑटो चालक देवेन्द्र और उसका दोस्त प्रभात प्रद्युमन को लेकर कानपुर देहात पहुंचे और फिर यहां से प्रद्युमन ने अपने ही गांव के पास रहने वाले साथी अमित और औरैया के फंफूद में रहने वाले गोलू को बुलाकर ट्रैवल्स मालिक अमित यादव को कॉल कर रसूलाबाद जाने के लिए गाड़ी बुक की।ड्राइवर अमित जब वैन कार लेकर उन्हें बैठाकर जा रहा था, तभी रास्ते में प्रद्युमन ने वारदात को अंजाम दिया। गाड़ी के अंदर ही धारदार हथियार से अमित की हत्या कर दी गई। जिसके बाद शव को रुरा नहर में फेंक कर फरार हो गए।

मोबाइल की लोकेशन से आरोपियों की गिरफ्तारी 

हत्या के बाद प्रद्युमन अपना मोबाइल ऑटो चालक के दोस्त प्रभात को देकर फरार हो गया। एसपी पश्चिम ने बताया कि प्रद्युमन के मोबाइल की लोकेशन के आधार पर ऑटो चालक देवेन्द्र और उसके दोस्त प्रभात को गिरफ्तार कर लिया गया है। पूछताछ में फरार प्रद्युमन, अमित उर्फ गोविन्द और गोलू के बारे में कोई भी जानकारी न होने की बात कही।

ऑटो चालक ने खुद को बताया निर्दोष

ट्रैवल्स मालिक की हत्या में गिरफ्तार आरोपी ऑटो चालक देवेन्द्र और उसके दोस्त प्रभात ने खुद को निर्दोष बताया है। पत्रकारों के सवालों पर बताया कि प्रद्युमन अपना मोबाइल एक हजार रुपये में बेचकर गया था। इस दौरान वो काफी घबराया था और पूछने पर हत्या किए जाने की बात कहकर भाग निकला। हत्या के दौरान वो लोग उनके साथ नहीं थे और 19 तारीख को प्रद्युमन को रसूलाबाद छोड़कर वापस औरैया घर आ गए थे।

Back to top button
E-Paper