सपा-बसपा ने 10 साल में दी जितनी नौकरी, उससे ज्यादा योगी सरकार ने 3 साल में दिए

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में उत्तर प्रदेश सरकार ने पुलिस विभाग में सबसे ज़्यादा नौकरियाँ दी हैं। योगी सरकार ने अपने शासनकाल में लगभग 3.6 लाख रोज़गार दिए हैं। एक बैठक में CM योगी आदित्यनाथ ने इस संबंध में एक अहम घोषणा की। उन्होंने राज्य के सभी विभागों को आदेश दिया कि जितने भी पद खाली पड़े हैं उन पर 3 महीने के भीतर प्रक्रिया शुरू की जाए और आगामी 6 महीने के भीतर प्रक्रिया पूरी की जाए। 

Loading...

मार्च 2017 यानी जब से योगी सरकार सत्ता में आई है, तब से प्रदेश के पुलिस विभाग में सबसे ज़्यादा भर्तियाँ हुई हैं। इन भर्तियों की संख्या 1,37,253 है। मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी किए गए आँकड़ों के अनुसार बेसिक शिक्षा विभाग में 54,706, सेकेंड्री शिक्षा विभाग में 14,000 और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में लगभग 28,622 भर्तियाँ हुई हैं।

इसके अलावा लोक सेवा आयोग में 26,103, उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (SSC) में 16,708, स्वास्थ्य शिक्षा विभाग के तहत 1112, नगर विकास विभाग के तहत 700, वित्त विभाग के तहत 614, व्यावसायिक शिक्षा और कौशल विकास विभाग के तहत 365, ऊर्जा विभाग के तहत 6446 पदों पर भर्तियाँ हुई हैं। यानी योगी सरकार में सभी भर्तियों की कुल संख्या 3,00,526 है।

सरकार द्वारा जारी किए गए अन्य आँकड़ों की मानें तो कई विभागों में भर्ती प्रक्रिया जारी भी है। बेसिक शिक्षा विभाग में 69,000 पदों पर, पुलिस विभाग में 16,629 पदों पर और ऊर्जा विभाग में 853 पदों पर भर्ती प्रक्रिया जारी है। यानी कुल मिला कर 86,482 पदों पर भर्ती प्रक्रिया जारी है। 18 सितंबर को हुई बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आदेश दिया था कि आगामी 6 महीनों में सभी खाली पद भरे जाएँ। इसके अलावा संबंधित विभागों को 3 महीने के भीतर चयन प्रक्रिया शुरू करने का भी आदेश दिया गया है। साथ ही मुख्यमंत्री ने उन विभागों को 1 हफ्ते के भीतर जानकारी देने के लिए कहा है, जिन विभागों में पद खाली हैं। 

एक हिंदी अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार योगी सरकार ने जितनी नौकरियाँ दी है, वह पिछली सपा-बसपा सरकारों में हुई भर्तियों से कहीं अधिक है। साल 2012 से लेकर 2017 के बीच अपने कार्यकाल में समाजवादी पार्टी सिर्फ 2.05 लाख रोज़गार ही दे पाई थी। वहीं बहुजन समाज पार्टी ने 2007 से 2012 के बीच सिर्फ 91 हज़ार नौकरियाँ दी थी।

Loading...
loading...
E-Paper
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker