अगले विश्वकप में नहीं दिखेंगे कई भारतीय खिलाड़ी, आखिर क्या है इसके पीछे की वजह…

-उम्र और फिटनेस को लेकर उठ गई हैं चिंताएं

नई दिल्ली (ईएमएस)। विश्व कप में आस्ट्रेलिया के हाथों पराजय मिलने के बाद अब सारी नजरें भारतीय खिलाड़ियों पर टिक गई हैं जिनकी उम्र और फिटनेस को लेकर चिंताएं उठ गई हैं। माना जा रहा है कि यह विश्व कप कई क्रिकेटरों का आखिरी भी हो सकता है। इनमें से कई क्रिकेटर मुश्किल से ही अगले संस्करण में खेल पाएंगे।

2023 विश्व कप में रोहित शर्मा भले ही बल्ले से सफल रहे लेकिन वह अपनी टीम को बतौर कप्तान रहते जीत नहीं दिला पाए। रोहित को 2011 विश्व कप टीम में चुना नहीं गया था लेकिन उन्होंने वापसी की और 2019 में उपकप्तान और 2023 में कप्तान बनकर लौटे। रोहित ने इस विश्व कप में 54.27 की औसत और 125.94 की शानदार स्ट्राइक रेट से 597 रन बनाए। रोहित अभी 36 साल के हैं। रविचंद्रन अश्विन जिन्हें बाएं हाथ के स्पिनर अक्षर पटेल के चोट के कारण बाहर होने के बाद भारतीय वनडे विश्व कप 2023 टीम में शामिल किया गया था, को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एकमात्र मैच में मौका मिला था जिसमें उन्होंने 34 रन देकर एक विकेट लिया था। अश्विन अभी 37 साल के हैं, और यह कहना बिल्कुल सुरक्षित है कि वह 2027 विश्व कप से पहले संन्यास लेने वाले पहले व्यक्ति हो सकते हैं। इस बार शायद उन्हें हमेशा के लिए वनडे टीम से भी बाहर किए जाने की संभावना है।

अश्विन 2011 विश्व कप विजेता भारतीय टीम का भी हिस्सा थे। मोहम्मद शमी ने अपनी गेंदबाजी के दम पर भारतीय टीम को अकेले अपने कंधे पर उठाया। उन्होंने टूर्नामेंट को अग्रणी विकेट लेने वाले गेंदबाज के रूप में समाप्त किया और कई रिकॉर्ड तोड़े। वह विश्व कप मंच पर भारत के लिए सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज भी बने। शमी जल्द 37 साल के हो जाएंगे और एक तेज गेंदबाज होने के नाते उनके लिए अगले विश्व कप तक आगे बढ़ना बहुत मुश्किल होगा। रवींद्र जडेजा जिनका 2023 विश्व कप अभियान बल्ले और गेंद दोनों से सफल रहा था का 2027 विश्व कप में शामिल होना मुश्किल लग रहा है। विश्व कप 2023 में अपना अभियान समाप्त करने के लिए जडेजा ने 16 विकेट लिए और बल्ले से 120 रन बनाए।


34 साल की उम्र में उनकी फिटनेस के बारे में कोई संदेह नहीं है, लेकिन भारतीय टीम में आने के लिए तैयार युवाओं को देखते हुए, जडेजा को विश्व कप के अगले संस्करण में अपने लिए जगह नहीं मिल सकती है। विराट कोहली ने विश्व कप में 95.62 की औसत से तीन शतक और छह अर्धशतकों के साथ 765 रन बनाकर प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट का पुरस्कार जीता था। उन्होंने महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के वनडे क्रिकेट में सर्वाधिक शतकों के रिकॉर्ड को तोड़ दिया। हालांकि, 35 वर्षीय खिलाड़ी वनडे विश्व कप के अगले संस्करण में शामिल नहीं हो पाएंगे क्योंकि उन्होंने इस टूर्नामेंट में अपना सब कुछ झोंक दिया है। उम्मीद यह भी है कि वह अब टेस्ट फॉर्मेट पर ही फोक्स कर सकते हैं।

Back to top button