आगरा में 2 पुलिसकर्मियों की डेंगू से मौत, देहात क्षेत्रों में ज्यादा परेशानी

आगरा में डेंगू ने पुलिसकर्मियों को भी मुश्किल में डाल दिया है। बीते दो दिन में दो पुलिसकर्मियों की डेंगू से मौत हो चुकी है। 30 से ज्यादा पुलिसकर्मी डेंगू से पीड़ित हैं। इनका अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है। नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग थानों में फागिंग और एन्टी लार्वा का छिड़काव करवा रहा है। थाना एत्माउद्दौला में तैनात सिपाही सोनू की डेंगू की मौत के बाद शुक्रवार को महिला पुलिसकर्मी प्रेमलता की भी इलाज के दौरान मौत हो गई।

डेंगू के बढ़ते मरीजों के कारण प्लेटलेट्स किट की कमी हो गयी है। एसएन मेडिकल कालेज से लेकर निजी ब्लड बैंकों में भी इस समय प्लेटलेट्स के जम्बो पैक की जबरदस्त डिमांड है। हालात यह है कि भीड़ को देखते हुए कमलानगर स्थित लोकहितम ब्लड बैंक ने पुलिस सुरक्षा की मांग की है। ज्यादातर ब्लड बैंकों में लोगों को प्लेटलेट्स के लिए दो दिन तक इंतजार करना पड़ रहा है। देहात क्षेत्रों में ज्यादा परेशानी

आगरा के मंसुखपुरा, चित्राहाट, पिनाहट, जैतपुर, बाह, फतेहाबाद, एत्मादपुर, बरहन, खंदौली आदि थाना क्षेत्रों में पुलिसकर्मियों को डेंगू का डर ज्यादा सता रहा है। देहात क्षेत्र के पुलिसकर्मी ज्यादातर थाने में ही रह रहे हैं। ज्यादातर संदिग्ध बुखार पीड़ित पुलिसकर्मी निजी चिकित्सालयों में इलाज करवा रहे हैं।

थानों में हो रहा एन्टी लार्वा छिड़काव
आगरा नगर निगम और देहात क्षेत्र में नगरपालिकाओं और स्वास्थ्य विभाग द्वारा थानों में फागिंग और एन्टी लार्वा का छिड़काव किया जा रहा है। इसके साथ ही पुलिसकर्मियों को परिसर में जलभराव और गंदगी न होने देने के लिए विशेष निर्देश दिए गए हैं। पुलिसकर्मियों को पेट्रोलिंग के दौरान हाथ ढके रखने के लिए भी कहा गया है।

ज्यादातर बच्चों को डेंगू का खतरा
बता दें कि डेंगू और संदिग्ध बुखार का खतरा ज्यादातर छोटे बच्चों को हो रहा है। पिनाहट क्षेत्र में अब तक चार मासूम सहित छह मौत हो चुकी हैं। शनिवार सुबह बाद के गुमान पूरा के रहने वाले चार वर्षीय मासूम कुलदीप की इलाज के दौरान मौत हुई है।

Back to top button
E-Paper