आपको HIV या एड्स तो नहीं, इन लक्षणों से आप जान सकते हैं..!

HIV या एड्स आज पूरी दुनिया के लिए सबसे बड़ी समस्या है, यह इसलिए बड़ी हो जाती है कि अभी तक साइंस की दुनिया में इसका इलाज संभव नहीं हो सका है। यह बिमारी हर साल सैकडों लोगों के मौत का कारण बनती है। इस बिमारी के फैलने के मुख्य कारणों में यौन सम्बन्ध, दूषित खून एवं इस्तेमाल की हुई सुई मुख्य वजहें हैं। हालांकि, सुरक्षित यौन संबंध के जरिये इसपर कुछ हद तक काबू तो पाया जा सकता है, लेकिन इसके लिए लोगों में जागरूकता फैलाना आवश्यक है। आज हम आपको HIV या एड्स के कुछ ऐसे लक्षण बताने जा रहे हैं जिनसे आप इस बिमारी कि पहचान कर सकते हैं।

लंबे समय तक बुखार –

अगर आपको लंबे समय तक बुखार रहता है तो तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर से इसकी जांच कराएं। क्योंकि HIV से संक्रमित होने के बाद इस प्रकार की बिमारियां काफी समय तक बनी रहती हैं। और ये दवा से भी जल्दी ठीक नहीं होती।

जल्दी थकान –

क्योंकि HIV के विषाणु हमारे शरीर की कार्यक्षमता को प्रभावित करते हैं जिसके कारण इससे पीडित व्यक्ति को अक्सर थकान महसूस होने लगता है। अगर आप भी किसी काम को शुरू करने से पहले ही थके हुए रहने लगें हैं तो आपको सावधान होने की जरुरत है।

मांसपेशियों में जकड़न –

HIV के विषाणु हमारे शरीर की मांसपेशियों पर विपरीत असर डालते हैं। HIV से ग्रसित व्यक्ति को अक्सर मांसपेशियों में जकड़न की समस्या रहती है। ये इसका एक प्रमुख लक्षण है।

सिरदर्द एवं गले में खराश की समस्या –

यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को प्रभावित करता है। इसीलिए संक्रमित व्यक्ति हमेशा सिरदर्द एवं गले में खराश जैसी समस्याओं से जूझता रहता है। इस रोग से पीडित व्यक्ति में खुजली के साथ धब्बे जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

जोड़ों में सुजन और दर्द –

मांसपेशियों में खिंचाव के साथ-साथ संक्रमित व्यक्ति के घुटनों, कंधों या बाकी के जोड़ों में दर्द और सुजन  होनी शुरू हो जाती है. इस स्थिति में आपको जल्द से जल्द एचआईवी की जांच करा लेनी चाहियें.

गले में दर्द और सूखापन –

अक्सर जब आप कुछ देर तक पानी नहीं पीते हो तो आपको अजीब सा महसुस होने लगता है। लेकिन आप नियमित रूप से पानी पी रहे हैं फिर भी आपके गले में खराश या पकड़न महसूस हो रहा है तो ये लक्षण एड्स के हो सकते हैं।

वजन का लगातार कम होना –

एचआईवी या एड्स पीडित व्यक्ति का वजन एकदम से नहीं घटता, बल्कि यह धीरे – धीरे कम होता है। अगर पिछले कुछ महीनों में बिना कुछ किए आपके वजन में गिरावट आई है तो एक बार डॉक्टर से चेक करवा लें।

बिना कारण के हमेशा तनाव में रहना –

आपके आपकी लाइफ में कोई समस्या नहीं है फिर भी आप हमेशा तनाव महसुस कर रहे हैं और बात – बात पर रोना आ रहा है तो नि:संदेह आपको एचआईवी की जांच करवाने की जरूरत है।

हमेशा मतली आना –

अगर आपको हर समय मतली आना या फिर खाना खाने के तुरंत बाद उल्‍टी होने जैसे लक्षण लिखाई दें तो आपको सावधान रहने कि जरुरत है। ये लक्षण शरीर में एचआईवी का वायरस का होना दिखाते हैं।

सूखा कफ बनना –

खांसी न होने के बावजूद अगर आपको हमेशा कफ आ रहा है और मुंह का जायका खराब रहता है। तो आपको ऐसी स्थिति में आप एचआईवी टेस्‍ट जरूर करवा लेना चाहिए।

Back to top button
E-Paper