आर्यन का गुड बॉय बनने का वादा: NCB से कहा- मैं अच्छा इंसान बनूंगा, गरीबों और कमजोर लोगों की मदद करूंगा

क्रूज ड्रग्स पार्टी केस में गिरफ्तार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान इन दिनों मुंबई की आर्थर रोड जेल में बंद हैं। मुंबई की स्पेशल NDPS कोर्ट ने गुरुवार को आर्यन की जमानत पर फैसला सुरक्षित रख लिया था। इस मामले की अगली सुनवाई 20 अक्टूबर को होगी। इस बीच खबर आ रही है कि आर्यन जब नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) की हिरासत में थे, तब एजेंसी द्वारा उनकी काउंसलिंग की गई थी। एक रिपोर्ट के मुताबिक काउंसलिंग के दौरान आर्यन ने NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े से वादा किया, ‘मैं अच्छा इंसान बनकर अच्छे काम करूंगा और एक दिन आपको मुझ पर गर्व होगा।’

NGO वर्कर्स ने भी की थी आर्यन की काउंसलिंग
आर्यन ने काउंसलिंग के दौरान NCB से यह भी वादा किया है कि जेल से बाहर आने के बाद वे कभी कुछ गलत नहीं करेंगे। साथ ही गरीबों और कमजोर लोगों की मदद भी करेंगे। बताया जा रहा है कि NCB के समीर वानखेड़े के साथ NGO वर्कर्स ने भी आर्यन की काउंसलिंग की थी।

जेल में आर्यन को कैदी नंबर 956 का बैच मिला है
बता दें कि आर्यन खान के साथ अरबाज मर्चेंट, मुनमुन धमीचा समेत अन्य आरोपियों को भी 20 अक्टूबर तक जेल में ही रहना होगा। सेशंस कोर्ट द्वारा 20 तारीख को ही आर्यन समेत अन्य आरोपियों की जमानत याचिका पर फैसला सुनाया जाएगा, जब तक आर्यन को सलाखों के पीछे ही रहना होगा। जेल में आर्यन को कैदी नंबर 956 का बैच मिला है।

शाहरुख- गौरी ने भेजा आर्यन के लिए मनी ऑर्डर
11 अक्टूबर को शाहरुख खान और गौरी ने बेटे आर्यन के लिए 4500 रुपए का मनी ऑर्डर भेजा है। जेल में एक कैदी को महज इतने ही रुपए रखने की इजाजत है। इन पैसों के जरिए आर्यन ने जेल की कैंटीन से खाने का सामान लेकर रखा है, क्योंकि उन्हें जेल का खाना पसंद नहीं है।

आर्यन को 8 अक्टूबर को आर्थर रोड जेल भेजा गया था
बता दें कि 8 अक्टूबर को आर्यन को अन्य आरोपियों के साथ आर्थर रोड जेल भेजा गया था। 14 अक्टूबर को आर्यन खान समेत पांच अन्य आरोपियों को क्वारैंटाइन सेल से शिफ्ट करके कॉमन सेल में ट्रांसफर कर दिया गया था। बता दें कि आर्यन खान को 02 अक्टूबर को मुंबई में क्रूज पर हो रही ड्रग्स पार्टी पर NCB की छापेमारी में कई लोगों के साथ हिरासत में लिया गया था। कोर्ट ने बाद में आर्यन समेत सभी आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।

Back to top button
E-Paper