इस बार सख्त है लॉकडाउन : CM गहलोत की चेतावनी के बाद एक्शन में पुलिस, अब बेवजह घर से बाहर निकलने तो…

कोरोना रोगियों की संख्या में कमी नहीं आने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पुलिस की सख्ती की चेतावनी दी थी, जो मंगलवार को नजर भी आई। अब ग्यारह बजे बाद बेवजह घर से बाहर निकलने वाले शख्स को पुलिस अपने स्तर पर क्वारेंटाइन कर रही है और निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद ही छोड़ रही है। मंगलवार को यह सख्ती ठीक ग्यारह बजे से लागू हो गई। मेडिकल सहित अन्य जायज कारण से बाहर निकलने वालों को छोड़ा जा रहा है। बहानेबाजी करके घूमने वालों के साथ सख्ती हो रही है। अगर आप भी किसी काम से बाहर जा रहे हैं तो प्रमाण साथ लेकर ही निकलें। उधर, कोरोना के चलते जनता अब भी बेपरवाह बनी हुई है, वह बिना काम से बाहर निकल रही है, ऐसा ज्यादातर जगहों पर देखने को मिला।

जयपुर में बेवजह पैदल भी घूमे तो सीधा पकड़े

राजधानी में 57 पुलिस थानों के जवान 1064 में तैनात थे। वे घर से बाहर निकलने वालों की पकड़ कर संस्थागत क्वारेंटाइन कर रहे थे। इस दौरान पुलिस ने साफ हिदायत दी कि कोरोना से बचना है तो बेवजह घर से न निकलें। हर आने जाने वाले से पूछताछ की जा रही है, क्यों बाहर निकलें। बेवजह पैदल घूमने वालों तक को पकड़ रही है।बीकानेर में डेढ़ सौ प्वाइंट पर नजर

बीकानेर में करीब डेढ़ सौ प्वाइंट बनाकर पुलिस को तैनात किया गया है। खासकर परकोटे से और राष्ट्रीय राजमार्ग से अंदर की ओर प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति से पूछताछ की जा रही है। कोटगेट के अंदर जाना और वहां से बाहर निकलना अब आसान नहीं है। ग्यारह बजे बाद भुट्‌टा चौराहा, उरमूल सर्किल, जयपुर रोड, नत्थूसर गेट, जस्सूसर गेट, गोगागेट सहित अनेक क्षेत्रों में पुलिस ने आवाजाही रोक दी है। बिना जायज कारण के कोई आगे नहीं बढ़ पा रहा है। पुलिस अधीक्षक प्रीति चंद्रा स्वयं एक-एक थाने से रिपोर्ट ले रही है। शहर और सदर सीओ को सड़कों पर उतरने के आदेश दिए गए हैं।नागौर में बेरिकेडिंग लगाए, फिर भी आवाजाही

नागौर में आवाजाही रोकने के लिए चारों तरफ बेरिकेडिंग्स नजर आ रही है, इसके बाद भी दुपहिया वाहन नजर आ ही जाते हैं। पुलिस फिलहाल अधिकांश लोगों को समझाबूझाकर घर भेज रही है। कोई आनाकानी करता है तो उसके वाहन सीज किए जा रहे हैं। शहर के अंदरुनी क्षेत्र में भी घरों के आगे बनी चौकियों व चौपालों पर उपस्थिति बनी हुई है। नागौर में सोमवार को 95 ऐसे लोगों को क्वारेंटाइन किया गया, जो बिना काम घर से बाहर घूम रहे थे।उदयपुर में एक्टिव मोड में पुलिस

उदयपुर में कोरोना संक्रमित मरीजों की रफ्तार बढ़ने के साथ ही जिला प्रशासन एक्टिव मोड में आ गया है। शहर में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 37 हजार को पार कर गया है। जबकि 320 मरीजों के उदयपुर में कोरोना संक्रमण से मौत हो गई है। ऐसे में शहर के बाजार जहां सुनसान नजर आ रहे हैं। वहीं लापरवाह लोगों के खिलाफ उदयपुर पुलिस लगातार कार्रवाई कर रही है। बीते 24 घंटे में उदयपुर पुलिस ने 140 लोगों को क्वारेंटाइन किया है, जो बेवजह सड़कों पर घूम रहे थे।

चित्तौड़गढ़ के चौराहों पर पुलिस नदारद

उधर, चित्तौड़गढ़ के जिन चौराहों पर हर वक्त पुलिस नजर आती रही है, वहां मंगलवार को कोई पुलिसकर्मी नजर नहीं आया। ऐसे में वाहनों की रेलमपेल ज्यादा नजर आई। शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना गाइड लाइन्स की पालना नहीं हो रही है।

भरतपुर में बिना काम घूम रहे दो दर्जन हिरासत में

जिले में कोरोना गाइडलाइन्स की अवहेलना करने वाले दो दर्जन से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया। इन्हें बाद में मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया, जहां से क्वारेंटाइन सेंटर भेजने के निर्देश दिए गए। जिले में मंगलवार को पुलिस काफी सख्त नजर आई। अधिकांश मार्गों पर पुलिस तैनात है और हर आने-जाने वाले से पूछताछ की जा रही है।

बाड़मेर में चालान पर जोर

शहर में लगातार पुलिस ने सख़्ती दिखाई। अहिंसा सर्किल, मुख्य बाज़ारों में पुलिस सख़्ती दिखाते हुए चालान काटे। बेवजह पैदल घूमने वालों के भी चालान काटे। पुलिस मुख्य बाजार के साइड वाली गलियों मे बेरिकेडिग कर रास्ता रोक दिया। मैन रोड़ को ही चालु रखा है।अजमेर में हर रोड पर है पुलिस जाब्ता

हॉस्पिटल, बस स्टैंड व रेलवे स्टेशन से आने जाने के नाम पर लोगों की आवाजाही हुई लेकिन पुलिस की ओर से इनसे भी कड़ी पूछताछ करके ही जाने दिया जा रहा है। सड़कें सूनी रही। अजमेर शहर भर में पुलिस ने साेमवार काे 137 वाहन जब्त किए और करीब 113 से ज्यादा लाेगाें काे पकड़ कर क्वारेंटाइन कराया। इनके आरटीपीसीआर टेस्ट करवाए जा रहे हैं और रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही छोड़ा जाएगा। अजमेर के वैशाली नगर, गंज, आनासागर लिंक रोड, रामगंज, आदर्श नगर, परबतपुरा, मदार गेट, गांधी भवन चौराहा आदि जगहों पर पुलिस की चैकिंग है।कोटा में अब तक आधा दर्जन जबरन क्वारेंटाइन

शहर के प्रमुख चौराहों पर पुलिस जाब्ता तैनात है 12 बजे से पुलिस बेवजह घूमने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है। डेढ़ बजे तक 6 लोगों को पकड़कर क्वारंटाइन सेंटर में पहुंचाया है। पुलिस की सख्ती का असर बाजारों में नहीं दिख रहा है लोगों की आवाजाही नजर आ रही है। पुलिस ने कई जगह समझाइश करके भी घर भेजा है।बांसवाड़ा में हाथ जोड़ रही है पुलिस

बांसवाड़ा में पुलिस चौराहों पर वाहन सवारों के सामने हाथ जोड़ रही है। उनसे अपील कर रही है कि वह बिना काम के सड़कों पर नहीं घूमे। बीमारी बढ़ रही है। मंगलवार को कस्टम, मोहन कॉलोनी, नए बस स्टैंड और महाराणा प्रताप सर्कल पर ऐसा ही नजारा था। पुलिस की इस पहल पर कुछ लोगों ने स्वागत किया तो कुछ ने नजरंदाज किया। मंगलवार को बाजारों में भीड़ कम रही, जबकि सोमवार को शहर के भीतरी बाजारों में पैर रखने की जगह नहीं थी।

Back to top button
E-Paper