कानपुर में बराबर मिल रहे कोरोना मरीज, एक्टिव केसों की संख्या है चौका देने वाली…

– सोमवार को तीन और मिले कोरोना पॉजिटिव मरीज– सही होने वाले मरीजों का घटा प्रतिशत, 90 से पहुंचा 86 फीसदी– जनपद के विभिन्न अस्पतालों में 56 संक्रमित मरीजों का चल रहा इलाज– 11 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की हो चुकी है मौत, कुल मरीज हुए 372 – हॉट स्पॉट इलाके के बाहर अब मिल रहे कोरोना मरीज

कानपुर । उत्तर प्रदेश की औद्योगिक राजधानी कानपुर नगर में बीते दिनों कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में कमी हो रही थी। इसको लेकर एक बार ऐसा लगा था कि अब कानपुर में कोरोना संक्रमण की चेन टूट रही है। लेकिन तीन दिन पहले एक बार फिर कोरोना का बम फूटा और लगातार कोरोना के पॉजिटिव मरीज सामने आ रहे हैं। सोमवार को भी जनपद में तीन नये कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले। वहीं जनपद में अब एक्टिव केसों की संख्या 372 के सापेक्ष 56 जा पहुंची है और 11 मरीजों की मौत भी हो चुकी है। लगातार आ रहे कोरोना मरीजों को लेकर स्वास्थ्य विभाग से लेकर प्रशाससन तक में बेचैनी बढ़ गयी है और आगे की रणनीति बनाना तेज हो गयी है। 

वैश्विक महामारी बना कोरोना वायरस का संक्रमण खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। जिले में कोरोना का संक्रमण एक बार फिर तेजी से बढ़ रहा है और अब नए इलाकों की ओर रुख करने लगा है। सोमवार को कानपुर में कोरोना के तीन और मरीजों की रिपोर्ट पॉजीटिव आयी। कोरोना पॉजीटिव यह मरीज बाबूपुरवा और डिप्टी पड़ाव इलाके से हैं। हालांकि डिप्टी पड़ाव जोखिम क्षेत्र (हॉटस्पॉट) की सूची में है और बाबूपुरवा को भी अब शामिल किया जाएगा।

तो वहीं हॉट स्पॉट इलाके का दायरा भी बढ़ा रहा है। ऐसे में जनपद में कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा 372 जा पहुंचा। कोरोना पॉजिटिव के केस बढ़ने से स्वास्थ्य विभाग से लेकर प्रशासन तक के माथे पर बल ला दिया है। दोनों विभाग यह नहीं समझ पा रहे हैं कि आखिरकार इसे कैसे नियंत्रित किया जाये। हालांकि राहत की बात यह है कि कोरोना पॉजिटिव मरीजों में सुधार तेजी से हो रहा है और लगभग 86 फीसदी कोरोना मरीज सही हो चुके हैं।
उत्तर प्रदेश के कानपुर नगर जनपद में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इनमें ज्यादातर दिल्ली के तब्लीगी जमातियों के संपर्क में आये लोग हैं। कोरोना ग्रसित मरीजों की बढ़ रही संख्या को लेकर प्रशासन से लेकर स्वास्थ्य महकमे की नींद उड़ी हुई है। प्रशासन की पूरी कोशिश है कि लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराया जाये जिससे संक्रमित लोगों की चपेट में दूसरे लोग न आ सके। वहीं स्वास्थ्य विभाग भी जांच तेज कर दी है और इन दिनों रोजाना करीब 400 से अधिक संदिग्धों की जांच करायी जा रही है। सोमवार को गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कालेज से आयी जांच रिपोर्ट में तीन और मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई है। सीएमओ डॉ. अशोक शुक्ला ने बताया कि जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज की कोविड-19 लैब से जांच रिपोर्ट आई है, जिसमें तीन मरीजों में कोरोना पॉजिटिव पाया गया। बताया कि आज जो कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आये है वह बाबूपुरवा और डिप्टी पड़ाव के रहने वाले हैं। बताया कि जनपद में अब तक 372 कोरोना पॉजिटिव केस आ चुके हैं, पर राहत की बात यह है कि इनमें 305 मरीज सही हो चुके हैं और उनकी अस्पतालों से छुट्टी कर दी गयी है। वहीं 11 मरीजों की मौत हो चुकी है और अब 56 मरीज ही अस्पतालों में भर्ती हैं।
स्वास्थ्य विभाग की टीम ने किया भ्रमण
सीएमओ ने बताया कि लोगों को बराबर कोरोना के प्रति जागरुक किया जा रहा है और आज भी स्वास्थ्य विभाग की 107 टीमों ने 7046 घरों का भ्रमण किया। टीम ने गोला घाट, मकनिया बाजार, दलेलपुरवा, अनवरगंज में कुम्हार वाली गली, गुजेनी में के और आई ब्लॉक, टिकरा और कल्याणपुर आदि क्षेत्रों में लोगों को कोरोना से बचाव के बारे में जानकारी दी। वहीं एक कोरोना मरीज की रामा मेडिकल कालेज से छुट्टी कर दी गयी है और आज 319 सैंपल भी कलेक्ट किये गए। इसके साथ ही अलग-अलग क्वारंटाइन सेंटरों से 57 व्यक्तियों की आज छुट्टी कर दी गयी है।
सीएमओ का कहना
मुख्य चिकित्साधिकारी डा. अशोक कुमार शुक्ला ने बताया कि महिलाओं में भी लगातार कोरोना का संक्रमण फैल रहा है। इससे ऐसा प्रतीत हो रहा है कि पुरुष बाहर से घूमने के बाद घर के अंदर जाकर परिवार वालों को संक्रमण दे रहे हैं। इसी के चलते अब महिलाएं और उनके छोटे बच्चे भी कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। उन्होंने शहरवासियों से अपील की कि इस महामारी के खात्मे के लिए जागरुकता लायें। लॉकडाउन का पालन करें और घरों के अंदर ही रहें। इसके साथ ही फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करें। सफाई का ध्यान रखें और हाथों को निरंतर धोते रहें। बताया कि अब तक जनपद में 372 केस पॉजिटिव आ चुके हैं। इनमें 305 सही हो चुके हैं और 11 की मौत हो चुकी है। ऐसे में इस समय हैलट के कोविड-19 हॉस्पिटल, सरसौल और काशीराम ट्रामा सेंटर में 56 मरीजों का इलाज चल रहा है। वहीं तीन वर्षीय कोरोना पॉजिटिव सिपाही की बेटी को लेकर कहा कि शहर में तीन साल की बच्ची में कोरोना संक्रमण का पहला केस है, जो यह दर्शाता है कि अभी भी लोग कोरोना को लेकर सजग नहीं है। बताया कि जिस बेटी को कोराना हुआ है उसका पिता भी पॉजिटिव है और बेटी की मां की रिपोर्ट निगेटिव आयी है। सीएमओ ने बताया कि एक और आयी जांच रिपोर्ट में भी एक तीन वर्षीय बच्चा कोरोना पॉजिटिव पाया गया था।  
स्वास्थ्य विभाग की टीमें कर रहीं घर-घर सर्वे
सीएमओ ने बताया कि जनपद में रोजाना नये कोरोना पॉजिटिव केस मिल रहे हैं, जिससे संभावना है कि अभी भी जनपद में कोरोना की चेन नहीं टूटी है। इसी को देखते हुए घर-घर स्वास्थ्य विभाग की टीम सर्वे कर रही है। इसके साथ ही थर्मल स्क्रीनिंग भी करायी जा रही है और डाटा भी एकत्र किया जा रहा है कि कौन व्यक्ति लॉकडाउन के समय कहां-कहां गया, या लॉकडाउन से पहले कहीं बाहर से तो नहीं आया। उन्होंने बताया कि अब तक स्वास्थ्य विभाग की टीम ने साढ़े चार लाख से अधिक घरों का सर्वे कर चुकी है और यह काम अनवरत जारी है।
कुली बाजार जैसा न हो डिप्टी पड़ाव का हालकानपुर में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच अब डिप्टी पड़ाव बड़ी मुश्किल बनता जा रहा है।  यहां पर लगातार कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। ऐसे में इस बात की आशंकाएं प्रबल हो गई हैं कि कहीं डिप्टी पड़ाव का हाल भी कुली बाजार और कर्नलगंज जैसा न हो। गौरतलब हो कि तब्लीगी जमात के सदस्यों के आने के बाद कोरोना संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले कुलीबाजार और फिर कर्नलगंज में मिले थे, इसी वजह से अब डिप्टी पड़ाव यहां के लोगों की उलझन को बढ़ा रहा है।

Back to top button
E-Paper