कानपुर हिंसा : बोतलों में भर-भरकर बांटा पेट्रोल, पंप पर हुई कार्रवाई

कानपुर (ईएमएस)। कानपुर में बवाल करने वालों की धरपकड़ जारी है। पुलिस ने कुछ और उपद्रवियों को गिरफ्तार कर लिया और उनसे पूछताछ की जा रही है। इसी बीच एक और चीज सामने आई है। उपद्रवियों द्वारा पथराव करने के साथ-साथ पेट्रोल बम फेंककर इलाके में दहशत फैलाने का काम किया गया था। पेट्रोल बम के लिए बोतलों में पेट्रोल कहां से आया, इस बात की जांच शुरू हुई तो पता चला कि शहर पेट्रोल पंप से उपद्रवियों ने बोतलों में पेट्रोल खरीदा था।

इसके बाद पेट्रोल पंप पर भी कार्रवाई कर दी गई है। दरअसल, इस घटना के सीसीटीवी वीडियो वायरल हुए हैं जिसमें दिख रहा है कि बोतल में पेट्रोल दिया जा रहा है। मामला संज्ञान में आने पर प्रशासन ने बोतल में पेट्रोल देने वाले पंप का लाइसेंस सस्पेंड कर दिया है। जांच के बाद पता चला कि हिंसा से ठीक पहले पेट्रोल पंपों से पेट्रोल खरीदा गया था क्योंकि हिंसा के बाद जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देश दिए गए थे कि आसपास के पेट्रोल पंपों की जांच की जाए और यह पता लगाया जाए कि हिंसा के वक्त पेट्रोल बम कहां से आए और किसी पेट्रोल पंप वाले ने खुले में पेट्रोल तो बेचा है। इसके बाद जब जांच की गई तो पूरा मामला सामने आ गया। जांच के दौरान डिप्टी हॉल्ट स्थित पेट्रोल पंप के सीसीटीवी फुटेज में पाया गया कि पेट्रोल पंप द्वारा बोतल में पेट्रोल दिया गया था।

घटना के संबंध में 2 और 3 जून के वीडियो शेयर किए गए हैं। जिलाधिकारी के अनुसार बोतल में पेट्रोल बेचने पर पूर्णतया प्रतिबंध लगाए जाने के बावजूद पंप मालिक ने कई युवाओं को पेट्रोल बोतल में बेचा। प्रथम दृष्टया मामले में लापरवाही बरतने पर पेट्रोल पंप को सस्पेंड कर दिया गया है। इसके साथ ही पेट्रोल पंप पर लगे सीसीटीवी की डीवीआर को भी प्रशासनिक अधिकारियों ने कब्जे में लेकर कमिश्नरेट पुलिस को सौंप दिया है। यह भी बताया गया कि आसपास जितने भी पेट्रोल पंप है उन सभी के सीसीटीवी फुटेज निकलवा कर सभी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उधर मामले में धरपकड़ तेज हो गई है। पुलिस उपद्रवियों को गिरफ्तार करके उनसे पूछताछ कर रही है। सोशल मीडिया पर नजर रखने के लिए टीम बनाई गई है जो अफवाह और माहौल बिगाड़ने करने का प्रयास करने वालों पर नजर रखेगी।

Back to top button