चक्रवाती तूफान अम्फान ने ओडिशा और प. बंगाल में मचाई भारी तबाही, 12 लोगों की मौत-देखे VIDEO

कोलकाता । पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार रात दावा एक बयान में कहा कि चक्रवात अम्फन ने पश्चिम बंगाल के विस्तृत इलाके में भारी तबाही मचाई है। इसमें 12 लोगों के मरने की आशंका है।

बुधवार अपराह्न ढाई बजे चक्रवात दीघा के समुद्र तट से टकराया था। तब इसकी गति 165 से 185 किलोमीटर प्रति घंटे के बीच थी। उसके बाद यह दक्षिण 24 परगना के सागर तट से होते हुए राजधानी कोलकाता, हावड़ा, हुगली और उत्तर तथा दक्षिण 24 परगना क्षेत्रों से होकर गुजरा है। यहां बड़े पैमाने पर मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं। कोलकाता में इसकी अधिकतम गति 133 किलोमीटर प्रति घंटे रिकॉर्ड की गई है। 4 से 5 घंटे तक चक्रवात पश्चिम बंगाल के विस्तृत इलाके में तबाही मचाता रहा है।

इस दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य सचिवालय में खोले गए निगरानी कक्ष में बैठकर पूरे हालात पर निगरानी रखी है। रात के समय उन्होंने मीडिया से बात की। सीएम ने कहा कि इस चक्रवात की वजह से उत्तर और दक्षिण 24 परगना के विस्तृत इलाके में भारी क्षति हुई है। 10 से 12 लोगों की मौत की खबर मिल रही है। शाम 6:30 बजे के करीब कोलकाता में चक्रवात की अधिकतम गति 133 किलोमीटर प्रतिघंटा रिकॉर्ड की गई है। हालांकि रात को 8:00 बजे के बाद इसकी गति थोड़ी नरम पड़ी है। सीएम ने कहा है कि खतरा अभी टला नहीं है।

उन्होंने कहा कि रामनगर से लेकर नंदीग्राम तक भारी नुकसान हुआ है। उत्तर 24 परगना के बैरकपुर, बसीरहाट, बारासात के अलावा दक्षिण 24 परगना व हावड़ा की हालत सबसे खराब रही है। मुख्यमंत्री ने बताया कि चक्रवात ने उत्तर और दक्षिण 24 परगना को पूरी तरह से ध्वस्त कर दिया है। उन्होंने आश्वस्त किया कि लोगों की मदद से वह क्षतिग्रस्त क्षेत्रों को फिर से आबाद करेंगी।

सीएम ने कहा कि दीघा समुद्र तट पर बहुत अधिक नुकसान नहीं हुआ है। सबसे ज्यादा प्रभाव उत्तर और दक्षिण 24 परगना में पड़ा है। उन्होंने कहा कि हमारा दफ्तर भी आधे से अधिक टूट चुका है। अनगिनत मकान टूट गए हैं। नदियों के बांध टूट गए हैं। खेत और फसलों का सर्वनाश हो चुका है। उन्होंने कहा कि 10 से 12 लोगों की मौत की सूचना मिल चुकी है। अभी भी यह संख्या बढ़ सकती है। उन्होंने कहा कि चक्रवात की वजह से अधिकतर क्षेत्रों में बाढ़ जैसी स्थिति बन गई है। सीएम ने कहा कि नुकसान का सटीक आकलन करने में कम से कम 10 से 12 दिनों का समय लग सकता है। संचार व्यवस्था पूरी तरह से ठप हो।

https://twitter.com/GoenkaPk/status/1263127814607261696

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया है कि राज्य के जिन 6 जिलों से चक्रवात होकर गुजरा है, वहां संचार व्यवस्था पूरी तरह से ठप हो गई है। बिजली की आपूर्ति बंद की गई है ताकि संभावित खतरे को टाला जा सके। टेलीफोन के तार टूट चुके हैं और इंटरनेट आदि का कनेक्शन बंद है। कुल मिलाकर कहा जाए तो यह जिले राज्य के बाकी हिस्से से लगभग पूरी तरह से कर चुके हैं।

उल्लेखनीय है कि चक्रवात आने से पहले ही राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) और राज्य प्रशासन की टीम ने मिलकर 5 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचा दिया था। फिर भी बड़े पैमाने पर जानमाल का नुकसान हुआ है।

असम में जाकर खत्म होगा तूफान
इस बीच मौसम विभाग ने तूफान के आगे के रास्ते का पूर्वानुमान जारी किया। इसके मुताबिक, अम्फान गुरुवार सुबह 5.30 बजे के आसपास 60 से 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बांग्लादेश पहुंच जाएगा। फिर बांग्लादेश की सीमा से निकलकर मेघालय और असम में जाकर खत्म हो जाएगा।

टीवी फुटेज में दीघा तट पर समुद्र की काफी ऊंची लहरें दिख रही हैं। भारी बारिश के कारण कई स्थानों पर पानी भर गया जबकि कच्चे मकान गिर गए या क्षतिग्रस्त हो गए।

भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने प्रधान के साथ मीडिया को संयुक्त रूप से संबोधित किया। उन्होंने कहा कि उत्तरी 24 परगना और पूर्वी मिदनापुर जिलों में 160-170 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही थीं। हवाओं की गति बढ़कर 185 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है। उन्होंने कहा कि चक्रवात का सबसे घातक हिस्सा तट पर पहुंचा गया है जिससे तीनों जिलों में भारी बारिश हुई। तूफान के केंद्र का व्यास 30 किमी का था।

Back to top button
E-Paper