चीन में वैक्सीन न लगवाने वालों को नहीं मिलेगा पार्क और अस्पताल आदि में प्रवेश

चीन के कई हिस्सों में वैक्सीन नहीं लगवाने वाले लोगों के लिए जिंदगी पहले जैसी नहीं रहने वाली। दरअसल, यहां ऐसे लोगों के पार्क, अस्पतालों और स्कूलों आदि में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया जाएगा, जिन्होंने कोरोना वायरस वैक्सीन नहीं लगवाई है।कई प्रांतों ने चेतावनियां जारी कर लोगों से अगस्त के शुुरुआती हफ्तों तक वैक्सीन लगवाने को कहा है। ऐसा न करने पर उन्हें रोजमर्रा की जिंदगी में कई पाबंदियों का सामना करना पड़ेगा। 

दिसंबर तक हर्ड इम्युनिटी प्राप्त करने का लक्ष्य

चीन के जियांगक्सी प्रांत के डिंगनेन इलाके में दो लाख से अधिक लोग रहते हैं। यहां एक नोटिस लगाकर कहा गया है कि अगर लोग 26 जुलाई तक वैक्सीन नहीं लगवाते हैं तो उन्हें सैद्धांतिक रूप से स्कूल, सार्वजनिक परिवहन, अस्पतालों और दूसरी सुविधाओं में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।ये नोटिस ऐसे समय में सामने आए हैं, जब चीनी सरकार दिसंबर तक कोरोना संक्रमण के खिलाफ हर्ड इम्युनिटी प्राप्त करने के लक्ष्य के साथ आगे बढ़ रही है।चीन

50 से अधिक शहरों में प्रशासन ने दी चेतावनी

CNN के अनुसार, जुलाई के शुरुआती दो हफ्तों में 12 प्रांतों के 50 से ज्यादा इलाकों ने वैक्सीन न लगवाने वाले लोगों को चेतावनी भरे नोटिस जारी किए हैं।इन प्रांतों में सिचुआन, फुजियान, शांक्सी, जियांगसु, जियांगक्सी, गुआंगक्सी, एन्हुई, शांगडोंग, हेबेई, हेनान, झेजियांग आदि शामिल हैं।लोगों को वैक्सीन की खुराक लगवाने के लिए प्रोत्साहित करते इन नोटिस में लिखा गया है कि वैक्सीन न लेने से आपकी जिंदगी और बाहर घूमना प्रभावित हो सकता है।चीन में वैक्सीनेशन

कई शहरों में अलग-अलग नीतियां

अलग-अलग इलाकों में इस संबंध में अलग-अलग नीतियां बनाई गई हैं।33 इलाकों में प्रशासन ने कहा है कि किसी भी सार्वजनिक सुविधाओं के उपयोग और सरकारी इमारतों में प्रवेश से पहले वैक्सीनेशन का रिकॉर्ड देखा जाएगा और जिन लोगों ने वैक्सीन नहीं लगवाई है, उन्हें खुराक लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।वहीं 19 इलाकों में कहा गया है कि वैक्सीन न लगवाने वाले लोगों को कई प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है।चीन

वैक्सीन न लगवाने पर नौकरी जाने का भी खतरा

सिचुआन के जिंगयान जिले में प्रशासन ने कहा है कि 17 जुलाई के बाद वैक्सीन न लगवाने वाले लोगों को अस्पताल, स्कूल और लाइब्रेरी में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। हालांकि, जिन लोगों ने स्वास्थ्य कारणों से वैक्सीन नहीं लगवाई है, उन पर यह प्रतिबंध लागू नहीं होगा।नोटिस में यह भी कहा गया है कि सुपरमार्केट में काम करने वाले लोग अगर वैक्सीन नहीं लगवाते हैं तो उन्हें नौकरी से निकाला जा सकता है।चीन

बच्चों के स्कूल में प्रवेश के लिए माता-पिता का वैक्सीनेटेड होना जरूरी

कई जगहों पर इन प्रतिबंधों को और भी कड़ा किया गया है। गुआंगक्सी के गुइपिंग और बैलियु शहर में लगे नोटिस में कहा गया है कि केवल उन्हीं बच्चों को स्कूलों में प्रवेश दिया जाएगा, जिनके माता-पिता पूरी तरह वैक्सीनेट हो चुके हैं। विरोध के बाद यह नोटिस हटा दिया गया है, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि यह प्रतिबंध लागू रहेगा या इसे भी हटाया जाएगा।कई जगह कर्मचारियों का वेतन रोकने का नोटिस लगाया गया है।कोरोना वैक्सीनेशन

चीन में वैक्सीनेशन अभियान की रफ्तार सबसे तेज

चीन के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन से जुड़े महामारी विशेषज्ञ शाओ यीमिंग ने कहा कि चीनी वैक्सीनों की प्रभावकारिता 100 प्रतिशत से कम है। दिसंबर तक हर्ड इम्युनिटी प्राप्त करने के लिए चीन को करीब 140 करोड़ में से 100 करोड़ लोगों को पूरी तरह वैक्सीनेट करना होगा।ब्लूमबर्ग के अनुसार, अभी तक चीन की आधी आबादी (लगभग 70 करोड़ लोगों) को खुराकें लग पाई हैं, जो दुनिया के किसी भी देश से ज्यादा है।

Back to top button
E-Paper