छह से आठ तक की कक्षाएं आज से होंगी गुलज़ार, स्‍कूलों में सभी तैयारियां पूरी

 
लखनऊ। कोरोना काल के बाद से बंद चल रहे स्कूल आज यानी बुधवार से गुलज़ार हो रहे हैं। कक्षा 6 से आठ और पहली मार्च से सभी कक्षाएं यानी कक्षा एक से पांच तक के सभी स्कूलों खुल जाएंगे। राजधानी के सरकारी परिषदीय विद्यालय व निजी स्कूलों ने तैयारियां पूरी करने का दावा किया हैं। अनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के स्टेट प्रेसिडेंट अनिल अग्रवाल ने कहा क‍ि निजी स्कूल पूरी तरह तैयार हैं। कोरोना संक्रमण को लेकर जारी एसओपी के तहत स्कूलों में सिटिंग अरेंजमेंट का काम पूरा कर लिया गया है। सभी स्कूलों में प्रवेश और निकासी के लिए अलग-अलग द्वार बनाए गए हैं।

कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों के लिए स्कूल खोलने के लिए शासन द्वारा जारी किये गये आदेश के बाद सिटी मोन्टेसरी स्कूल के सभी जूनियर कैम्पसों (जापलिंग रोड, अलीगंज द्वितीय कैम्पस, राजेन्द्र नगर द्वितीय कैम्पस तथा राजाजीपुरम द्वितीय कैम्पस) को 10 फरवरी से खोलने की पूरी तैयारी की जा चुकी है। साथ ही बाकी सभी सीनियर कैम्पसों में आई.सी.एस.ई. एवं आई.एस.सी. के चल रहे प्री-बोर्ड परीक्षाओं को ध्यान में रखते हुए इन कैम्पसों में 15 फरवरी से कक्षा 6 से 8 तक के बच्चे अपने अभिभावकों की सहमति से विद्यालय आकर पढ़ाई करेंगे। अभी तक जिन जूनियर कैम्पसों को 10 फरवरी से खोला जा रहा है, वहां के 50 प्रतिशत से अधिक अभिभावकों ने अपनी सहमति दे दी है।

सैनिटाइजेशन और हैंड वॉश की व्यवस्था की गई है। सरकार के दिशा निर्देशों के अनुसार अभी आधी संख्या में ही बच्चों को स्कूल बुलाना है इस तरह एक बच्चा हफ्ते में सिर्फ एक बार स्कूल आएगा। मगर निजी स्कूलों के पास एक साथ सभी बच्चों को बिठाने के लिए क्षमता है। वहीं जिला विद्यालय निरीक्षक दिनेश कुमार (बीएसए) ने बताया क‍ि कोरोना संक्रमण को लेकर जारी प्रोटोकॉल व दिशा निर्देशों के तहत बच्चों को कक्षा में बिठाने के संबंध में शिक्षकों को दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

सीएमएस के प्रवक्ता ऋषि खन्ना ने बताया क‍ि इन सभी कैम्पसों में कोरोना महामारी से निबटने के लिए सरकार द्वारा जारी किये गये सभी दिशा-निर्दशों का पूरी तरह से पालन सुनिश्चित किया गया है। सभी कैम्पसों को पूरी तरह से सैनेटाइज करवाने के साथ ही कोविड हेल्प डेस्क की भी स्थापना की गयी है। साथ ही कक्षाओं में बच्चों को बैठने के लिए शारीरिक दूरी का पूरी तरह से ध्यान रखा गया है।

Back to top button
E-Paper