जोक्स: पत्नी को उदास देख पति ने पूछा- मुंह लटकाए क्‍यों बैठी हो ?

नियमित रूप से हँसने से आपका स्वास्थ्य तो अच्छा रहेगा ही साथ ही इससे शरीर में एनर्जी लेवल भी बना रहता है। हंसने से शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है जिससे हमारे शरीर में कई तरह की बीमारियों से लड़ने की सहायता मिलती है, इसीलिये आज हम आप लोगों को हंसाने के लिये कुछ ऐसे जोक्‍स लेकर आये जिन्‍हे आप लोगों ने आज से पहले कभी नही पढ़ा होगा। जिन जोक्‍स की आज हम बात कर रहे हे वो कुछ इस प्रकार से है…..

पहला जोक : पति गुस्से में बडबड़ाता हुआ अपने फ्लैट में घुसा…..पत्नी–क्या हुआ? पति–मेरा अपार्टमेंट के मैनेजर से झगड़ा हो गया, पत्नी–क्यों?पति–वो कमीना अपने दोस्तों से कह रहा था कि इस अपार्टमेंट रहने वाली सारी महिलाओं से उसकी सेटिंग है, सिर्फ एक को छोड़कर, पत्नी–हम्‍म्‍म, एक को छोड़कर, वो जरूर थर्ड फ्लोर पर रहने वाली मिसेज गुप्ता होगी, इस पूरी बिल्डिंग में वही सबसे ज्यादा नकचढ़ी है।

दूसरा जोक : बीवी से परेशान पति एक दिन पंडितजी के पास पहुंचा, पति – “पंडितजी, एक बात बताइये ये जनम जनम का साथ वाली बात सच है क्या ?” पंडितजी – “सौ फ़ीसदी सच” पति– “मतलब मुझे अगले जनम में भी यही पत्नी मिलेगी …?” पंडितजी – “बिलकुल” पति – “हे भगवान, फिर तो ख़ुदकुशी करने से भी कोई फायदा नही।

तीसरा जोक : निकाह के दौरान मौलवी ने आवाज लगाते हुए कहा – इस शादी पर किसी को कोई ऐतराज़? एक आवाज़ आई–हाँ, मुझे है, मौलवी ने आवाज लगाने वाले को झिड़कते हुए कहा–अमां यार तुम चुप रहो, तुम दूल्हे हो, तुम्हें तो ज़िन्दगी भर रहेगा।

चौथा जोक : पति -तुम मेरी फिल्म में काम करोगी…? पत्नी –हाँ करूंगी, क्या करना होगा? पति-कुछ नहीं बस नदी में जाकर खड़ी हो जाना… पत्नी-फिल्म का नाम क्या है? पति – गई भैंस पानी में पत्नी तिलमिलाकर रह गई. फिर बोली पत्नी -तुम मेरी फिल्म में काम करोगे? पति -हाँ, क्या करना है? पत्नी -बस घर जाना है फिर वापस यहीं नदी किनारे आना है, ऐसा दो तीन बार करना है,पति -ठीक है. पर फिल्म का नाम क्या है? पत्नी-धोबी का कुत्ता न घर का न घाट का।

पांचवा जोक : एक नवविवाहित जोड़ा बर्तन की दुकान में झगड़ रहा था।पत्नी- ये वाला स्टील का गिलास लो, पति-नहीं, ज़रा और बड़ा गिलास लेंगे, दुकानदार-साहब जी, महिला दिवस भले ही चला गया है,लेकिन मैडम जो कह रही हैं, वही गिलास ले लीजिए ना, पति -“अरे भैया तुम्हें बेचने की पड़ी है लेकिन इस छोटे से गिलास में मेरा हाथ घुसता नहीं है,मैं इसे माँजूगा कैसे?

Back to top button
E-Paper