पंजाब में इस तारीख से सिंगल यूज प्‍लास्टिक के यूज पर रोक, सीएम ने लगाया प्रतिबंध

चंडीगढ़ (ईएमएस)। पंजाब को पर्यावरण प्रदूषण से मुक्त रखने सूबे को हरा-भरा और सेहतमंद बनाने के साथ कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए मान सरकार ने एक जुलाई से एक बार प्रयोग में आने वाले प्लास्टिक पर पाबंदी लगाने का ऐलान किया है। विश्व पर्यावरण दिवस-2022 को मनाने के लिए वर्चुअल तौर पर हुए राज्य स्तरीय समागम के दौरान विज्ञान, प्रौद्यौगिकी और पर्यावरण के सचिव राहुल तिवाड़ी ने राज्य में पर्यावरण की सुरक्षा के लिए राज्य सरकार के फ़ैसले का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि पंजाब को हरा-भरा और सेहतमंद बनाने के लिए जुलाई 2022 से सिंगल यूज प्लास्टिक पर पाबंदी लगाई जायेगी। उन्‍होंने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली राज्य सरकार महान गुरु साहिबान के दिखाऐ मार्ग पर चलते हुये पंजाब को साफ़-सुथरा, हरा-भरा और प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए पूर्ण तौर पर वचनबद्ध है।


राज्य भर में 55 एसटीपीज स्थापित करने का ऐलान करते हुए सचिव ने बताया कि यह अत्याधुनिक प्लांट जल प्रदूषण के स्तर को कुछ हद तक घटाने के साथ-साथ संशोधित पानी की खेती और अन्य सहायक धंधों के लिए प्रयोग करेंगे। जैविक ईंधन आधारित औद्योगिक इकाईयों को कुदरती गैस आधारित इकाईयों में तब्‍दील करने के लिए राज्य सरकार की पहल कदमियों के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने औद्योगिक इकाईयों में अत्याधुनिक मीटर लगा कर औद्योगिक इकाईयों की ऑनलाइन निगरानी शुरू की है और साथ ही इसकी जांच करने के लिए ऑनलाइन निगरानी स्टेशन भी शुरू किये हैं। जिससे पानी और हवा के प्रदूषण का स्तर घटाया जा सके। राहुल तिवाड़ी ने बताया कि इस साल 1।20 करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य तय किया है और कार्बन उत्सर्जन को घटाने के लिए ‘क्लाइमेट एक्शन प्लान 2।0’ तैयार है।


एक अन्य पहलकदमी में सचिव ने पर्यावरण के संरक्षण और राज्य के बहुमूल्य कुदरती साधनों के संरक्षण में शानदार योगदान के लिए मौजूदा वर्ष से शहीद भगत सिंह पंजाब राज्य पर्यावरण पुरस्कार देने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि यह पुरस्कार कुदरती संसाधनों की संभाल के लिए व्यक्तियों या संस्थाओं की तरफ से की गई बेमिसाल मेहनत का सम्मान होगा। राहुल तिवाड़ी ने कहा कि यह अवार्ड धरती के महान सुपुत्र और महान शहीद भगत सिंह के नाम पर रखा जायेगा, जिन्होंने देश को विदेशी साम्राज्यवाद के चंगुल से मुक्त करवाने के लिए अपनी जान न्यौछावर कर दी।

 इस मौके पर सचिव ने 50 एमएलडी के सामर्थ्य वाला एफ्लुऐंट ट्रीटमेंट प्लांट (सीईटीपी), लुधियाना और कपूरथला में पुष्पा गुजराल साइंस सिटी में स्थापित तंदुरुस्त पंजाब मिशन की मुख्य विशेषताएं दिखाने के लिए गैलरी को राज्य के लोगों को समर्पित किया। उन्होंने पंजाब जीव-विभिन्नता बोर्ड और पंजाब राज्य विज्ञान और प्रौद्यौगिकी कौंसिल की तरफ से सांझे तौर पर प्रकाशित कॉफी टेबल बुक थ्रैटनड फ्लोरा एंड फौना ऑफ पंजाब भी जारी की। मिशन तंदुरुस्त पंजाब की सोसायटी की तरफ से तैयार वित्तीय साल 2022-23 के लिए मिशन तंदुरुस्त पंजाब कार्य योजना और विद्यार्थी गतिविधि के बारे पंजाब स्टेट कौंसिल फॉर साइंस एंड टैक्‍नोलॉजी द्वारा जलवायु परिवर्तन सम्बंधी तैयार की पुस्तक के अलावा पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड की तरफ से पर्यावरण एक्ट, अधिनियमों और नियमों के बारे तैयारी की संक्षिप्त सूचना को भी जारी किया गया है।

Back to top button