भाजपा से क्यों एकतरफा इश्क कर रहे हैं चिराग पासवान?, आखिर क्या है रणनीति, इनसाइड स्टोरी

कभी फिल्मी परदे पर आशिक बनकर ठुमके लगाने वाले चिराग पासवान इन दिनों रियल लाइफ में भी बिहार की सियासत में एकतरफा आशिक बने हुए हैं, नीतीश का दिल तोड़ एनडीए से नाता तोड़ लिया है, लेकिन पीएम मोदी से दिल लगाये बैठे हैं, चिराग का कहना है कि हनुमान की तरह उनके दिल में पीएम मोदी की तस्वीर बसती है, मौका मिला तो सीना चीर कर दिखा दूंगा, यहां तक कि चिराग पासवान ने 10 नवंबर को चुनावी नतीजे आने के बाद बीजेपी की अगुवाई में बीजेपी-लोजपा की सरकार बनने का दावा कर दिया है, हालांकि एकतरफा आशिख की तर्ज पर मोदी से प्रेम राग अलापने वाले चिराग को बीजेपी जरा भी भाव देने के मूड में नहीं है।

नीतीश ही होंगे सीएम
केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने चिराग पासवान को दो टूक शब्दों में कह दिया है कि बीजेपी के जदयू से ज्यादा सीटें आएगी, तो भी नीतीश ही सीएम बनेंगे, नीतीश की अगुवाई में ही बिहार में सरकार बनेगी, और बिहार में दो तिहाई बहुमत से एनडीए चुनाव जीतेगा, एक निजी चैनल को दिये इंटरव्यू में अमित शाह के इस बयान के बाद प्रकाश जावड़ेकर और सुशील कुमार मोदी ने चिराग की पार्टी को वोटकटवा कह दिया, इसके साथ ही किसी भ्रम में नहीं रहने और ना ही भ्रम फैलाने की चेतावनी तक दे डाली।

एकतरफा इश्क
हालांकि बीजेपी द्वारा वोटकटवा कहे जाने के बाद भी चिराग का इसे एकतरफा इश्क ही कहेंगे कि वो बीजेपी नेताओं के बयान के पीछे नीतीश के दबाव को वजह बताते हैं, चिराग के मुताबिक बीजेपी नेताओं से नीतीश ऐसी भाषा बुलवा रहे हैं, बीजेपी को लेकर चिराग का एकतरफा इश्क है, तो दावा भी कि बीजेपी और मोदी से वही सच्ची मोहब्बत करते हैं, नीतीश ने सिर्फ सबको धोखा ही दिया है, इसलिये उन्हें मोदी की तस्वीर लगाने की जरुरत ज्यादा है। जाहिर है कि चिराग बीजेपी और मोदी से एकतरफा इश्क का इजहार करते हैं तो नीतीश पर तीखा वार लेकिन सवाल है कि ऐसा करने के पीछे आखिर चिराग की मंशा क्या है।

बीजेपी डैमेज कंट्रोल में जुटी
दरअसल चिराग सार्वजनिक तौर पर ये कहते रहे कि उन्होने जदयू के खिलाफ चुनाव लड़ने का जो कदम उठाया है, उसके बारे में केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा को विस्तार से बताया था, ऐसे में बीजेपी नेताओं को लगने लगा कि इसका एक गलत संदेश जमीनी स्तर पर जाएगा, बीजेपी का वोट लोजपा को ट्रांसफर हो सकता है, इसलिये वो तत्काल डैमेज कंट्रोल में जुट गये, चिराग पासवान के खिलाफ आक्रामक तेवर अपनाया, हालांकि बीजेपी की ओर से तल्ख टिप्पणी के बाद भी चिराग खुद को मोदी का हनुमान बताकर लोगों से वोट मांग रहे हैं।

Back to top button
E-Paper