भूल कर भी न खायें इन लोगों के घर का खाना, खबर पढ़कर लीजिये पूरी जानकारी

दोस्तों, हमारी हिंदू सभ्यता में किसी को खाना खिलाना बहुत पुण्य का काम बताया गया है, लेकिन गुरुण पुराण में कुछ ऐसे भी घर बताये गए हैं, जिनके यहां अगर आप भोजन करते हैं, तो आपको पाप का भागीदार बनना पड़ सकता है। इतना ही नहीं आपको इसके लिए नरक की यातनाएं भी झेलनी पड़ सकती है। क्या आप जानते है, वो घर कौन से हैं…

इसमें सबसे पहले आता किसी अपराधी या फिर चोर का घर

कभी भी किसी अपराधी के यहां भूलकर भी भोजन न करें, क्यों कि वो भोजन गलत तरह से कमाएं हुए पैसों से लाया हुआ होता है। जिससे उसके घर का खाना भी अशुद्ध माना जाता है, वो खाना खाने से उस गलत इंसान के पापों का असर आप के जीवन पर भी होने लगता है। जिसकी वजह से आपका दिमाग भ्रष्ट हो जाता है और आप भी गलत रास्ते पर चलने लगते हैं। अब ये तो हम सभी जानते है कि हम जो खाते है, उसका असर हमारे शरीर के साथ- साथ हमारे दिमाग पर भी होता है।

इसलिए ऐसे घर का खाना खाने से जरुर बचें।

अब दूसरा घर है चरित्रहीन स्त्री का

हमेशा याद रखें किसी चरित्रहीन स्त्री के यहां खाने का मतलब है, अपनी बेइज्जती को निमंत्रण देना। गरुण पुराण में कहा गया है कि यदि आप गंदे आचरण वाली स्त्री के घर का भोजन करते है, तो वो दिन दूर नहीं जब लोग आपका मजाक बनाने लगेंगे। क्यों कि ऐसी स्त्री के घर का खाना तो दूर उसके घर जाना भी पाप होता है।

तीसरा घर है किन्नरों का

हमारे हिंदू धर्म में किन्नरों के यहां दान का विशेष महत्व है। इतना ही नहीं किन्नरों के दिए पैसे या चावल बहुत शुभ माने जाते हैं। कहा जाता है इनके आशीर्वाद से घर में बरक्कत होती है। ऐसे में आप जिनको दान करते हैं उनके यहां का भोजन करना पाप होता है। इसका एक कारण ये भी है कि किन्नर कई घरों से दान लेकर अपना घर चलाते हैं, ऐसे में उन्हें दान देने वाले अच्छे भी होते हैं और बुरे भी, इसलिए उनके यहां का खाना खाना सही नहीं।

चौथा घर है गुस्से वाले व्यक्ति की

दोस्तों मनुष्य का सबसे बड़ा दुश्मन क्रोध होता है, लेकिन कुछ लोग इससे दोस्ती कर के इसे अपनी आदत बना लेते हैं। ऐसे इंसान के यहां का भोजन ज़हर के समान होता है। अब अगर आप उस घर का खाना खाते हैं, तो उसकी बुरी आदतें आपके अंदर भी आने लगती है और फिर आप अच्छे और बुरे में फर्क नहीं कर पाते। जिससे आप ऐसे फैसले ले लेते हैं, जिसका अफसोस आपको सारी जिंदगी करना पड़ता है।

इस लिस्ट में अगला नाम है नशीली चीजें बेचने वालों का

गरुण पुराण की माने तो जो लोग नशीली वस्तुओं को बेचने या फिर उसे बनाने का धंधा करते हैं, उनके यहां बिल्कुल नहीं खाना चाहिए। क्यों कि वो लोग किसी इंसान को बर्बाद कर क पैसे कमा रहे होते। कई बार तो नशे की वजह से लोगों के घर तक उजड़ जाते हैं। ऐसे में उस घर के लोग की बदुएं कभी खाली नहीं जाती। अब जिस घर ने दुआओं की जगह बदुआएं कमायी हो, भला उसके यहां का खाना कैसे पवित्र हो सकता है।

अगला घर है.. बीमार व्यक्ति का

आपको बता दें व्यक्ति बीमार तभी होता है, जब उसके घर में सकारात्मक शक्तियों का प्रभाव कम हो जाता है। क्यों कि ऐसे में बुरी शक्तियां ज्यादा शक्तिशाली हो जाती। अब अगर आप उस घर का भोजन करते हैं, जहां व्यक्ति लंबे समय से बीमार चल रहा हो, तो आप भी उस बीमारी की चपेट में आ सकते हैं। जिससे आपके स्वास्थ्य को नुकसान होना तय है।

सातवें नंबर पर है वो व्यक्ति जो निर्दयी हो

कहते है वो इंसान ही क्या जिसमें दया न हो। दूसरों के लिए दया की भावना रखना ही इंसानियत है। ऐसे में जो व्यक्ति हमेशा दूसरों को तकलीफ देता हो, उन्हें सताता हो, दूसरों के दुखों की वजह बनता हो, उसके यहां तो बिल्कुल भी नहीं खाना चाहिए। इससे व्यक्ति की बुरी आदतें आपके अंदर भी आ जाती है, क्योंकि जैसा हम भोजन करते हैं, वैसी ही सोच हमारी भी हो जाती है।

आठवें नंबर पर है वो लोगों जो पैसों को ब्याज पर देतें हैं

आज के समय में, ये बहुत आम हो चुकी है क्यों कि ये काम भी व्यापार की श्रेणी में आ चुका है। लेकिन कुछ लोगों इतने दुष्ट होते हैं, जो दूसरों की कमजोरी का फायदा उठाने लगते है, यानि कि ज्यादा ब्याज लेने लगते है या फिर समय सीमा को कम कर देते है सिर्फ अपने फायदे के लिए। पुराणों के अनुसार जो लोग ऐसा करते है उन्हें नर्क की यातनाएं सहनी पड़ती है और ऐसे घर का भोजन करने वालों को पापी कहा जाता है।

आपको ये जानकारी कैसी लगी हमें जरुर बतायें। अगर आप इसका वीडियो देखना चाहते है, तो दिये गये लिंक पर क्लिक कर के देख सकते हैं।

Back to top button