यात्री कृपया ध्यान दें…पैनिक न हो, नहीं बंद हो रहा ट्रेनों का संचालन, यहाँ लीजिये पूरी जानकारी

कोरोना महामारी की बढ़ती रफ्तार में इस तरह के कयास लगाएं जा रहे हैं कि ट्रेनों का संचालन बंद हो सकता है. हालांकि, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष सुनीत शर्मा ने शुक्रवार को कहा कि अभी तक किसी भी राज्य ने ट्रेन सेवा बंद करने का अनुरोध नहीं किया है. जहां भी राज्यों ने प्रतिबंधित क्षेत्रों को लेकर चिंता जताई है, वहां यात्रियों की रैंडम जांच और गंतव्य पर पहुंचने पर जांच की जा रही है. शर्मा ने बताया कि आईआरसीटीसी की टिकट बुक करने वाली वेबसाइट पर दिए गए प्रोटोकॉल का सभी राज्य पालन कर रहे हैं. वेबसाइट पर बताया जा रहा है कि यात्री को किन क्षेत्रों में जाने से पहले आरटी-पीसीआर जांच करवाने या कोविड-19 नेगेटिव प्रमाणपत्र लेने की जरूरत है, या फिर कहां पहुंचने पर उन्हें जांच प्रक्रिया से गुजरना होगा. 

सुनी​त शर्मा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि अभी तक किसी भी राज्य सरकार ने ट्रेनों का संचालन बंद करने को नहीं कहा है. लेकिन जहां भी चिंता की बात है, राज्य सरकारों ने मुद्दे को लेकर हमसे चर्चा की है और जहां भी प्रतिबंधित क्षेत्र हैं वहां रैंडम जांच किए जा रहे हैं. रेलवे ने ई-टिकट कराने की वेबसाइट पर सारी जानकारी दी हुई है और यात्रियों को सूचना दी जा रही है कि उन्हें अपने गंतव्य स्टेशन पर पहुंचने पर उन्हें जांच करवानी होगी या फिर नेगेटिव कोविड-19 सर्टिफिकेट लेकर जाना होगा. 

रेलवे मुस्तैद, हर प्रोटोकॉल का पालन 
रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने कहा कि रेलवे यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग कर रहा है. रेलवे ने कोविड-19 प्रोटोकॉल के तहत जुर्माने की राशि भी नोटिफाई कर दी है. उन्होंने श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाने की संभावना से इंकार कर दिया और कहा कि मांग और जरूरत के मुताबिक ट्रेनें चलाई जाएंगी. शर्मा ने यह भी कहा कि स्टेशनों पर भीड़ रोकने के मकसद से प्लेटफॉर्म टिकट के दाम बढ़ा दिए गए हैं. 

रेलवे के पास 4000 आइसोलेशन कोच 
कोविड केयर सेंटर के रूप में इस्तेमाल होने वाले रेल कोचेज के बारे में शर्मा ने बताया कि देश में अलग-अलग जगहों पर हमारे पास 4,000 आइसोलेशन कोच (बोगी) हैं. हमें महाराष्ट्र के नांदरबार से 100 से ज्यादा बोगियों की मांग आई है और 20 आइसोलेशन कोच मुहैया कराए गए हैं. रेलवे मुंबई, गुजरात, कर्नाटक और जहां भी मांग ज्यादा है, वहां सभी स्टेशनों पर करीब से नजर रखे हुए है और जोनल महाप्रबंधकों को अतिरिक्त ट्रेनें चलाने का अधिकार दिया गया है. 

करीब 70 फीसदी ट्रेन सेवा बहाल 
रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने आश्वासन दिया कि रेल सर्विसेज में कोई कमी नहीं लाएगी. हालात सामान्य हैं. भारतीय रेल औसतन एक दिन में 1,490 मालगाड़ियों और एक्सप्रेस ट्रेनों व 5,397 सबअर्बन ट्रेन सेवाओं का संचालन करती है. शर्मा ने कहा, ‘‘हम ज्यादा पॉपुलर ट्रेनों के 28 क्लोन ट्रेनें और 947 यात्री ट्रेनों का संचालन भी कर रहे हैं.’’ उन्होंने बताया कि करीब 70 फीसदी ट्रेन सेवा बहाल हो गई है. उन्होंने बताया कि देश भर में अतिरिक्त भीड़ कम करने के लिहाज से रेलवे 140 अतिरिक्त ट्रेनों का भी संचालन कर रही है.

Back to top button
E-Paper