यूरिक एसिड कंट्रोल ना हो तो यह बन जाता है गठिया, अखरोट खाकर करें इस पर कंट्रोल

नई दिल्ली (ईएमएस)। हेल्थ एक्सपर्टस के अनुसार, जब किडनी, शरीर में बनने वाले यूरिक एसिड को ठीक से फिल्टर कर यूरिन के रास्ते बाहर नहीं कर पाती और ये एसिड जोड़ों में ही जमा होने लगता है। इसी के चलते जोड़ों में दर्द और पैरों में सूजन दिखने लगती है।


अगर यूरिक एसिड कंट्रोल ना हो तो यह गठिया बन जाता है। इस रोग की वजह भी खराब लाइफस्टाइल ही है। अगर आप जरूरत से ज्यादा प्रोटीन ले रहे हैं तो सारा लेवल गड़बड़ा जाएगा। इसके अलावा जंक फूड खाना, पानी कम पीना और फिजिकल एक्टिविटी ना करना आदि इस वजह से भी यूरिक एसिड का लेवल बढ़ता है। यूरिक एसिड का लेवल कंट्रोल करने के लिए लाइफस्टाइल को हैल्दी बनाए। एक्सपर्ट्स के अनुसार, कुछ घरेलू नुस्खों की मदद से आप यूरिक एसिड को कंट्रोल में कर सकते हैं। इसके लिए गिलोय के पत्तों का इस्तेमाल करें।


आप गिलोय का पानी उबाल कर पी सकते हैं। अखरोट भी इसे कंट्रोल में रखता है। इसमें ओमेगा-3 भरपूर होता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के साथ-साथ विटामिन बी6, कॉपर, फॉस्फोरस और मैग्नीशियम जैसे कई पोषक तत्व भी पाए जाते हैं। अखरोट में हैल्दी प्रोटीन भरपूर होता है जो घुटनों में जमे यूरिक एसिड के क्रिस्टल्स को बाहर निकालने का काम करता है। दिन के 2 से 3 अखरोट खाने से आपको फायदा होगा। यह तनाव को कम करता है और इम्यूनिटी को स्ट्रांग। यूरिक एसिड हैं तो 30 मिनट हल्की-फुल्की एक्सरसाइज जरूर करें। 8-10 गिलास भरपूर पानी पीएं। हरी सब्जियों का जूस पीएं।

रात का खाना जल्दी खाएं। 8 घंटे की नींद लें। स्ट्रेस लेने से बचें। योग व मेडिटेशन जरूर करें। एल्कोहल-सिगरेट का सेवन ना करें। ज्यादा नॉनवेज जैसे रेडमीट खाने से बचें। हाई प्रोटीन चीजें जैसे राजमाह, मटर, चने और छिलके वाली दालों का सेवन डिनर में ना करें।आप सलाद में डालकर, स्मूदी और शेक में डालकर इसका सेवन कर सकते हैं। अगर अखरोट की तासीर गर्म लगती हैं तो आप इसे पानी में भिगोकर खा सकते हैं। इससे यूरिक एसिड तो कम होगा ही साथ ही में यह दिल और दिमाग दोनों के लिए फायदेमंद है।

Back to top button