रीना राय को अपनी सौतन भी बनाने को तैयार थी पूनम सिन्हा, लेकिन रखी थी ये शर्त

शादी से पहले शत्रुघ्न सिन्हा दो नावों की सवारी कर रहे थे. वो पूनम मीरचंदानी और रीना राय से एक साथ इश्क लड़ा रहे और जब शादी का वक़्त आया तो उन्होंने पूनम को ही चुना. मजे की बात ये थी कि शादी के बाद भी शत्रुघ्न सिन्हा ने रीना से दूरियां नहीं बनाई. वो घर से बाहर हमेशा रीना राय के साथ सार्वजनिक मंचों पर नजर आते. घंटों उनके घर में समय गुजारते. पूनम सिन्हा घर में उनका इंतज़ार करती और शत्रु रीना राय की बांहों में मशगूल रहते. शादी के 8 महीने बाद पूनम सिन्हा प्रेग्नेंट हो गई. तभी एक घटना घटी जिसके बाद पूनम सिन्हा ने एक निर्णय लिया.

शत्रुघ्न सिन्हा किसी काम से लाहौर गए हुए थे उनकी इस यात्रा में रीना राय भी साथ थी. रीना खुद को शत्रु की वाईफ कहकर खुद को इंट्रोड्यूस करती थी. एक दिन अचानक पूनम सिन्हा का फोन आया और उन्होंने खुद को शत्रु की वाइफ बताते हुए उनसे बात कराने की गुजारिश की. फोन ऑपरेटर पूरी तरह कन्फ्यूज हो गया. उसने पूनम सिन्हा को बताया कि फ़िलहाल वो अपनी पत्नी के साथ व्यस्त हैं इसलिए आप इंतज़ार करें. पत्नी का नाम पूछे जाने पर उन्होंने रीना राय बताया.

पूनम सिन्हा समझ गई कि शत्रु मानने वाले नहीं हैं. जब शत्रु लाहौर से लौटे तो उन्होंने अपने घर में बड़े भाई राम सिन्हा और लखन सिन्हा को पाया तो वो समझ गए कि मामला जरूर कुछ ख़ास है. बड़े भाई राम सिन्हा ने जब उनसे रीना और उनके रिश्ते के बारे में पूछा तो शत्रु बुरी तरह सकपका गए. काफी कुरेदे जाने पर शत्रु बुरी तरह रोने लगे. तब राम सिन्हा ने उन्हें फैसला सुनाया.

राम सिन्हा ने उन्हें बताया कि पूनम चाहती हैं कि तुम रीना राय को अपनी दूसरी पत्नी बना लो लेकिन शर्त ये है कि रीना कभी बच्चे पैदा नहीं कर सकती. शत्रुघ्न सिन्हा के लिए ये ऑफर किसी धमाके से कम नहीं था. शत्रु समझ गए कि घर वाली और बाहर वाली का खेल अब ज्यादा दिनों तक नहीं चल सकता. इसलिए उन्हें कोई ना कोई निर्णय तो लेना ही पडेगा.

उसी दिन शत्रु रीना राय के पास पहुंचे और जार-जार रोते हुए संबंध तोड़ने का फैसला सुना दिया. रीना ये पहले ही समझ चुकी थी कि इस रिश्ते का कुछ हो नहीं सकता. बेहतर यही है कि इसे इसी खूबसूरत मोड़ पर छोड़ दिया जाए. और इस तरह शत्रुघ्न सिन्हा और रीना राय का रिश्ता हमेशा के लिए ख़त्म हो गया.

Back to top button
E-Paper