रोजाना 8 घंटे कसरत करती है भारत की ये फीमेल बॉडी बिल्डर, 16 साल की उम्र में बनाईं शानदार मसल्स

आजकल हर कोई बॉडी बनाने का शौक रखता है चाहे वो लड़का हो या फिर लड़की. हर किसी के लिए फिटनेस एक फैशन ट्रेंड बन चुका है. वहीं जिम में भी लड़को से ज्यादा लड़कियां नजर आती हैं जो मेहनत कर अपने फिगर पर बाखूबी ध्यान दे रही हैं. वहीं आज हम आपको एक ऐसी लड़की से रूबारूह करवाने जा रहे हैं जो देखने में जितनी खूबसूरत हैं उसे कई ज्यादा मजबूत भी हैं. इन्हें आप कोमल कली तो बिलकुल भी ना समझे क्योंकि ये है मिस बाहुबली.

आज हम आपको मिस बाहुबली के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने केवल 16 साल की उम्र में ही ऐसी बॉडी बना ली जिसके चलते इन्हें भारत की सबसे यंगेस्ट बॉडी बिल्डर के नाम से जाना जाता है. आपको बता दें कि मिल बाहुबली भारत के कोलकाता में रहने वाली का असली नाम यूरोपा भौमिक है. जिन्हें बॉडी बिल्डिंग का जोश और जुनून इतना ज्यादा है कि वो दिन में 24 घंटे में से करीब 8 घंटे कसरत ही करती हैं.

इन्होंने साल 2016 में तीसरा स्थान के साथ IBPS चैंपियनशिप जीती. इसके बाद साल 2017 में नेशनल चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था. इतना ही नहीं यूरोपा ने बॉडी बिल्डिंग में कई पदक भी हासिल किए हैं. उस समय 16 साल की इस लड़की का हौसला और जूनून देख हर कोई हैरान रह जाता था.

आज यूरोपा लोगों के लिए एक प्रेरणा बन कर सामने आ चुकी है. अपनी कड़ी प्रतिभा के जरिए यूरोपा ने उन लोगों का मुंह बंद कर दिया जो उन्हें बॉडी बिल्डिंग करने से रोकते थे और कहते थे कि बॉडी बिल्डिंग महिलाओं के बस की बात नहीं है. ये सब सुनने के बाद भी यूरोपा के हौसले और जुनून कम नहीं हुए और आज इनकी जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है.

आपको बता दें कि बॉडी बिल्डिंग के इस फैसले को लेकर यूरोपा के परिवार वालों ने भी इनका साथ नहीं दिया था, यहां तक कि पड़ोसियों ने भी उनके इस फैसले को लेकर कई बातें सुनाई मगर यूरोपा अपने फैसले से डगमगाई नहीं. जिसके चलते आज इन्हें भारत की सबसे कम उम्र में बॉडी बिल्डर बनने वाली महिला युवा खिलाड़ी के नाम से जाना जाता है. बता दें कि यूरोपा को ओलंपिक में हिस्सा लेना है, जिससे कि वो भारत का नाम रोशन कर सके. इसलिए वो जी-तोड़ मेहनत करती हैं.

Back to top button
E-Paper