वाराणसी में मासूम का गला घोंटकर फांसी के फंदे पर लटककर महिला ने दी जान, पुलिस जांच में जुटी

उन्नति और उसकी मासूम बेटी। (फाइल फोटो)

वाराणसी के नेवादा सुंदरपुर क्षेत्र में अपनी 2 साल की बच्ची का गला घोंटने के बाद एक विवाहिता ने फांसी लगाकर जान दे दी। विवाहिता के आत्मघाती कदम की वजह उसके इंजीनियर पति और सास-ससुर से कलह बताई जा रही है। मायके वालों ने ससुराल वालों पर दहेज उत्पीड़न और घरेलू हिंसा सहित अन्य आरोप लगाए हैं। पुलिस सास-ससुर से पूछताछ करने के साथ ही पति के नई दिल्ली से आने का इंतजार कर रही है।2 बहनों और 1 भाई में सबसे बड़ी थी उन्नति

मिर्जापुर के अदलहाट थाना के कोल्हना गांव निवासी किसान दिनेश सिंह की दो बेटियों और एक बेटे में सबसे बड़ी उन्नति (28) थी। उन्नति की शादी लगभग 4 साल पहले नेवादा सुंदरपुर निवासी उमेश सिंह से हुई थी। शादी के दौरान यह बताया गया था कि लड़का रेलवे में इंजीनियर है, जबकि ऐसा नहीं था। फिलहाल उमेश नई दिल्ली में एक विमानन कंपनी में इंजीनियर के पद पर नौकरी करता है। दिनेश सिंह के अनुसार शादी के बाद से ही उनकी बेटी को दहेज के लिए ससुराल में प्रताड़ित किया जाने लगा। पति जब विमानन कंपनी में इंजीनियर हो गया तो उन्नति को और भी ज्यादा प्रताड़ित किया जाने लगा। इसी वजह से वह आजिज आकर अपनी बेटी की जान ले ली और फिर खुद खुदकुशी कर ली।बंद था अंदर से कमरे का दरवाजा

पोस्टमार्टम हाउस पर मौजूद परिजनों और पुलिस के अनुसार उन्नति अपने कमरे में फंदे के सहारे लटकी हुई थी और उसकी बेटी बेड पर मृत पर पड़ी हुई थी। इसके साथ ही कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था। इसी वजह से सभी ने यह अनुमान लगाया कि उन्नति अपनी बेटी का गला घोंटने के बाद सीलिंग फैन के हुक से रस्सी के फंदे के सहारे लटक गई।

उधर, इंस्पेक्टर भेलूपुर ने बताया कि युवती के पिता की तहरीर के आधार पर पति उमेश सिंह और सास जगपत्ती देवी और ससुर शुद्धू राम के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। सास-ससुर से पूछताछ की जा रही है। उमेश को बुलाया गया है और वह दिल्ली से वाराणसी के लिए रवाना हो गया है।

Back to top button
E-Paper