शंकराचार्य गद्दी संग जोशीमठ पहुंचे रावल

जोशीमठ। आदि शंकराचार्य जी की पवित्र गद्दी अपने शीतकालीन प्रवास स्थल जोशीमठ स्थित नरसिंह मंदिर पहुंच गई है। बद्रीनाथ धाम से चलकर रविवार रात्रि पांडुकेश्वर में विश्राम करने के बाद सोमवार सुबह शंकराचार्य गद्दी के साथ बद्रीनाथ धाम के मुख्य पुजारी रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूद व वेद पाठी जोशीमठ स्थित नरसिंह मंदिर पहुंचे।

 गद्दी के नरसिंह मंदिर पहुंचने पर स्थानीय लोगों ने ढोल नगाड़ों व महिलाओं ने मांगल गीत के साथ गद्दी का स्वागत किया। ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य वासुदेवानंद सरस्वती के प्रतिनिधि स्वामी रामानंद सरस्वती ने धाम के मुख्य पुजारी रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरि को शॉल भेंट कर उनका स्वागत किया। जिसके बाद रावल ने भगवान नरसिंह, नव दुर्गा, माता महालक्ष्मी के मंदिरों में पूजा अर्चना की इस दौरान वेद पाठकों द्वारा स्वस्तिवाचन का पाठ कर पूजा संपन्न करवाई गई। धाम के धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल ने बताया कि भगवान बद्री विशाल के कपाट शीतकाल के लिए बंद होने के बाद अगले 6 माह तक भगवान की शीतकालीन पूजाएं पांडुकेश्वर व जोशीमठ स्थित नरसिंह मंदिर में संपन्न की जाएंगी। 

Back to top button
E-Paper