सिर्फ एक बार शनिवार की रात को करें ये काम, फिर देखिए गजब का चमत्कार

शनिवार का दिन श्री हनुमान जी एवं शनि महाराज दोनों की ही आराधना, उपासना कर उनको प्रसन्न करने का सबसे बड़ा दिन माना जाता हैं । कहा जाता हैं कि इस दिन कुछ विशेष उपाय कर लिए जाये तो जीवन में किसी भी प्रकार का अभाव नहीं रहता है । यहां जो उपाय दिया जा रहा वह एक आजमाया हुआ सफल रामबण उपाय जो कभी खाली नहीं जाता, इसे केवल एक ही शनिवार की रात में ही किया जाता है । इस उपाय को करते समय एक सावधानी रखना अति आवश्यक कोई भी इसे देखे नहीं और ना ही कोई टोके । इस उपाय को एक बार करने के बाद दोबारा करने की जरूरत ही नहीं पडती है, इससे एक दो चार नहीं बल्की सैकड़ों मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं ।

शनिवार के दिन रात में किये जाने वाले उपाय के लिए इन सामग्रियों को इकट्ठा कर लें । ध्यान रहे इस उपाय को केवल एक ही शनिवार की रात में 11 बजे से 1 बजे रात के बीच में ही करना है । इस उपाय से सैकड़ों मनोकामनाएं एक ही बार में पूरी हो जाती हैं । उपाय करते समय हनुमान जी एवं शनि महाराज का ध्यान करने के साथ इनके बीज मंत्रों का जप मन ही मन किया जा सकता है ।

क्या सामग्री चाहिए

  • 7 नग आटे और गुड़ से बने गुलगुले
  • 7 नग मदार ( आक के फूल )
  • थोड़ा सा सिंदूर
  • 7 नग अरंडी के ताजे पत्ते जो खंडित न हो
  • 7 नग सफेद आक के फूल
  • गेहूं के आटे में सिंदूर मिलाकर बना हुआ एक दीपक जिसमें सरसों का तेल और लाल नाड़े की बत्ती लगी हो ।

ऐसे करे उपाय को-

1- शुक्ल पक्ष के पहले शनिवार के आटे और पुराने गुड़ को मिलाकर कुल 7 नग गुलगुले घर में ही सरसों के तेल में तल लें ।

2- अरंडी के सातों पत्तो की एक पत्तल बना लें ।

3- अब सभी सातों गुलगुले उस पत्तल पर रख दें ।

4- इसी पत्तल पर सिंदूर मिलाकर जो दीपक बनाया है उसे भी रख दें ।

5- अब जो आक के सफेद फूल है उन्हें भी उसी पत्तल पर रख दें ।

6- अब इन सभी सामग्रियों को किसी एकांत जगह वाले चौराहे पर जाकर रखे दें ।

7- चौराहे पर रखने के बाद पत्तल पर जो दीपक रखा है उसे जला दें ।

8- अब दोनों हाथ जोड़कर जो भी आपकी समस्या या मनोकामना हो उसके लिए प्रार्थना करें ।

9- प्रार्थना करने के बाद 7 बार उस पत्तल की परिक्रमा कर लें ।

10- उपरोक्त उपाय करते समय कोई भी आपको देखे नहीं, और जब उपाय पूरा हो जाये तो आते समय भूलकर भी पीछे मुड़कर ना देखे, किसी के आवाज देने पर भी नहीं ।

Back to top button
E-Paper