सीतापुर : बाजार जाएं तो बच्चों को साथ न ले जाएं, ऑनलाइन करें शॉपिंग


सीतापुर। शरदकालीन त्योहारों की श्रंखला शुरू हो चुकी है। नवरात्र, दशहरा और करवा चौथ के बाद धनतेरस, दीपावली गोवर्धन पूजा, भइया दूज, देवोत्थान एकादशी, क्रिसमस आदि त्योहारों की धूम शुरू हो रही है। त्योहारों को आनंद और उत्साह से मनाने के साथ ही हम सभी को अपनी जिम्मेदारियों को भी नहीं भूलना होगा। त्योहारों को लेकर बाजारों में भी भीड़भाड़ बढ़ी है, हम सभी को भी खरीदारी के लिए बार-बार बाजार जाना पड़ रहा है। लेकिन ऐसे में हमें समझदारी से काम लेने की जरूरत है, पहली बात तो यह कि यदि बहुत जरूरी न हो तो हम बच्चों को बाजार कतई लेकर न जाएं और दूसरी बात यह कि हमें कोविड-19 के प्रोटोकाल को कतई नहीं भूलना है।


इस संबंध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. मधु गैरोला का कहना है कि बाजार की भीड़भाड़ से बचने के लिए ऑनलाइन शापिंग की जा सकती है। लेकिन यदि बच्चे बाजार या फिर घर के बाहर जाने की जिद कर रहे हैं, तो बाजार के बजाए कुछ देर के लिए उन्हें किसी पार्क या फिर किसी अन्य खुली जगह पर ले जा सकते हैं। बाजार की भीड़ में बच्चे जब वहां की चीजों को छुएंगे तो उन्हें संक्रमण का खतरा अधिक होगा। बच्चों में मास्क लगाने की आदत डालें, बच्चों को बिना मास्क के घर के बाहर न निकलने दें। बाजार या फिर दूसरी भीड़भाड़ वाली जगह पर जाने पर कोविड प्रोटोकाल का सदैव पालन करें। मास्क से अपने मुंह और नाक को हमेशा अच्छी तरह से ढक कर रखें, अपने हाथों को साफ रखें और जहां तक संभव हो लोगों से पर्याप्त दूरी बना कर रखें। बाहर की कोई भी चीज छूने से के बाद अपने हाथों को सेनिटाइज करें, बाहर से घर आने पर भी अपने हाथों को साबुन-पानी से अच्छी तरह से धुलें। उन्होंने कहा कि त्योहारों को धूमधाम से मनाने के अति उत्साह में हमें कोरोनारोधी टीकाकरण कराने की जिम्मेदारी का भी पूरी गंभीरता से निर्वाहन करना है। हमें अपने निर्धारित समय पर आवश्यकतानुसार वैक्सीन की पहली अथवा दूसरी डोज लगवानी चाहिए और इसमें कतई लापरवाही नहीं करनी चाहिए।

Back to top button
E-Paper