स्पेशल ट्रेन में सफर करने से पहले जान लें ये 10 बातें, नहीं होगी दिक्कत

यात्रियों को डेढ़ घंटा पहले पहुंचना होगा स्टेशन, केवल कंफर्म टिकट बुक होंगे

किराये में शामिल नहीं होगा कैटरिंग शुल्क, प्लेटफार्म पर भी नहीं खुलेंगे स्टॉल

नई दिल्ली, 11 मई (हि.स.)। देशव्यापी लॉकडाउन के बीच भारतीय रेलवे 12 मई से आंशिक यात्री ट्रेनों की आवाजाही को फिर से शुरू करने जा रहा है। रेलवे शुरुआत में 15 जोड़ी वातानुकूलित ट्रेनों अर्थात कुल 30 रेलगाड़ियों को चलाया जाएगा। इसके लिए बुकिंग ऑनलाइन शुरू हो गई है। यात्री अधिकतम 7 दिन पहले तक का यात्रा टिकट बुक करा सकते हैं। यात्रियों को थर्मल स्क्रीनिंग के लिए डेढ़ घंटा पहले स्टेशन पर पहुंचना होगा।

रेल मंत्रालय में सूचना एवं प्रचार विभाग के कार्यकारी निदेशक राजेश दत्त बाजपेई ने सोमवार को बताया कि टिकट केवल आईआरसीटीसी की वेबसाइट से ऑनलाइन और मोबाइल ऐप से ही बुक होगा। रेलवे के एजेंटों और आईआरसीटीसी के एजेंटों के द्वारा टिकट बुक कराने की कोई सुविधा नहीं होगी। अग्रिम आरक्षण अवधि (एआरपी) अधिकतम 7 दिन की होगी। केवल कंफर्म टिकट बुक होंगे। आरएसी अथवा वेटिंग लिस्ट टिकट और टिकट चेकिंग स्टाफ द्वारा ऑन बोर्ड बुकिंग की अनुमति नहीं होगी। करंट बुकिंग, तत्काल और प्रीमियम तत्काल की अनुमति नहीं होगी। ट्रेन के रवाना होने से 24 घंटे पहले ऑनलाइन टिकट रद्द कराया जा सकेगा हालांकि इसके लिए किराए का 50 प्रतिशत कैंसिल चार्ज लगेगा।

किराये में कैटरिंग चार्ज शामिल नहीं किया जाएगा। प्रीपेड मील बुकिंग और ई-कैटरिंग नहीं होगी हालांकि आईआरसीटीसी भुगतान के आधार पर सीमित खाद्य पदार्थों और पेट पानी उपलब्ध कराएगा। ट्रेन के भीतर वेंडर नहीं आएगा इतना ही नहीं प्लेटफार्म पर भी स्टॉल और बूथ नहीं खोले जाएंगे वाजपेई ने कहा कि रेलवे यात्रियों को अपना खाना और पीने का पानी लाने के लिए प्रोत्साहित करेगा हालांकि सूखा, रेडी टू ईट और पानी की बोतल मांगने पर उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि यात्रियों को थर्मल स्क्रीनिंग और कोरोना के बिना लक्ष्मण वालों को ही यात्रा की अनुमति होगी। यात्रियों को सफर में रेलवे कंबल और चादर उपलब्ध नहीं कराएगा। यात्रियों को स्टेशन पर प्रवेश के समय और ट्रेन में यात्रा के दौरान सामाजिक दूरी का पालन करना होगा।

उल्लेखनीय है कि 12 मई से नई दिल्ली से डिब्रूगढ़, अगरतला, हावड़ा, पटना, बिलासपुर, रांची, भुवनेश्वर, सिकंदराबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, मडगांव, मुंबई सेंट्रल, अहमदाबाद और जम्मू तवी को जोड़ने वाली विशेष ट्रेनों के रूप में चलाई जाएंगी।

Back to top button
E-Paper