हर मोर्चे पर मुंह की खाने के बाद अब पाकिस्तान रच रहा है ‘टावर’ वाली साजिश

आतंकवादी संगठनों को देश में पनाह देने के लिए कुख्यात पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. पाकिस्तान का दोगलापन किसी से छिपा नहीं है. पूरी दुनिया जानती है कि कैसे पाकिस्तान हर वक्त कश्मीर के ख़्वाबों में नए-नए जाल बुनता रहता है. कभी कश्मीर कि अवाम को आज़ादी के झूठे सपने दिखाता है. तो कभी अपने ही देश के भटके हुए नौजवानों को 72 हूरों के ख्वाब दिखाके नरक की आग में झोंक देता है. हाल ही में पाकिस्तान ने एक और तरकीब निकाली है, कश्मीर में एंट्री की और भारत को बर्बाद होता देखने की. लिहाज़ा ये सपना सिर्फ सपना ही रेह जाएगा. बतादें की पाकिस्तान इमरान खान की सरकार ने मोबाइल नेटवर्क के कवरेज को जम्मू-कश्मीर तक बढ़ाने का प्लान तैयार किया है.

दरअसल, इमरान खान की सरकार ने मोबाइल नेटवर्क के कवरेज को जम्मू-कश्मीर तक बढ़ाने का प्लान तैयार किया है. इससे एक तरफ घुसपैठ करने वाले पाकिस्तानी आतंकियों को मदद मिलेगी, दूसरी तरफ भारत सरकार की ओर से भविष्य में संभावित किसी संचार प्रतिबंध को चकमा  दिया जा सकेगा.

नई दिल्ली में एक सुरक्षा अधिकारी के अनुसार, मौजूदा टेलीकॉम टावरों को ठीक करने और नए का निर्माण करने की योजना पर लगभग एक साल से काम चल रहा है. इसकी शुरुआत कश्मीर में घुसपैठ करने वाले आतंकवादियों की मदद करने के लिए मौजूदा नेटवर्क को मजबूत बनाने के इरादे से की गई थी, लेकिन पिछले साल पांच अगस्त के बाद कश्मीर में संचार पर लगाए गए प्रतिबंध के बाद पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने इससे अन्य फायदे उठाने की योजना पर काम करना शुरू कर दिया है.  पाकिस्तान चाहता है, कि कश्मीरी पाकिस्तानी टेलीकॉम सेवाओं का प्रयोग करें, जिसको भारतीय सेना ब्लॉक न कर सके. 

पिछले साल, केंद्र सरकार ने ऐतिहासिक फैसला करते हुए जम्मू-कश्मीर से धारा-370 को समाप्त कर दिया था. उस दौरान सरकार ने इंटरनेट सेवाओं को भी प्रतिबंधित कर दिया था, ताकि कोई सोशल मीडिया के जरिए से अफवाहें न फैला सके. तब से ज्यादातर प्रतिबंधों को तो हटा दिया गया है. लेकिन स्थानीय सुरक्षा अधिकारी अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए कुछ समय तक फोन लिंक पर ध्यान दिया है.

वहीं, पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई भी पीओके में एससीओ मोबाइल टावरों की सिग्नल स्ट्रेंथ को बढ़ाने के लिए जोर दे रही है. जैसे कि बारामुला में चाम के सामने, सोपोर के दूसरी तरफ लेप में, अपर नीलम वैली, कुपवाड़ा के सामने अठमुकम और श्रीनगर के सामने हिलन मीरा आदि जगह शामिल हैं. इसके अलावा, पाकिस्तानी सेना ने मैनटेन किए जाने वाला एससीओ जम्मू-कश्मीर में टीवी कवरेज बढ़ाने के लिए मुजफ्फराबाद के नजदीक लवत, अपर नीलम और खुईराता में स्थित टीवी टावरों की ट्रांसमिशन पावर को बढ़ा रहा है.

Back to top button
E-Paper