हवाई यात्रा से पहले नए नियमों की पूरी लिस्ट यहां देखें

देशभर में त्योहरी सीजन जारी है. हाल ही में नवरात्र, विजयदशमी और ईद का त्योहार लोगों द्वारा मनाया गया है. आपकी जानकारी के लिए बता दें केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा जारी एक सर्कुलर में 18 अक्टूबर से 100% क्षमता के साथ उड़ान भरने की इजाजत दी जा चुकी है. कोरोनावायरस के कारण काफी लंबे समय से 80% की क्षमता के साथ घरेलू फ्लाइट्स चल रही थी.

मंत्रालय ने जारी किया सर्कुलर

मंत्रालय के सर्कुलर के अनुसार घरेलू उड़ानों के परिचालन की क्षमता की पाबंदियों को हटाया गया है और 100% क्षमता के साथ यात्रियों को बैठने की इजाजत होगी. पहले सिर्फ 80% सीटों पर ही यात्रा करने की इजाजत थी. त्योहारी सीजन को देखते हुए केंद्रीय उड्डयन मंत्रालय ने 18 अक्टूबर से सभी घरेलू फ्लाइट्स को 100% क्षमता के साथ उड़ने की इजाजत दी थी. इस निर्णय से बहुत सारे लोगों को फायदा पहुंचेगा और वह आसानी से कहीं पर भी आ जा सकेंगे.

लागू रहेंगे यह प्रतिबंध

सरकार के आदेश में यह भी कहा गया है कि कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करवाया जाएगा और घरेलू उड़ानों पर न्यूनतम और अधिकतम किराया कैप जैसे कुछ अन्य प्रतिबंध लागू रहेंगे. इसके अलावा आपको बता दें कि अब आपको 2 घंटे से कम की यात्रा में भोजन उपलब्ध नहीं करवाया जाएगा और न ही बेचा जाएगा. जब भारत में दूसरी कोरोना की लहर ने दस्तक दी थी उस समय से ही सरकार ने 2 घंटे से कम यात्रा वाली घरेलू उड़ानों में भोजन सर्विस और उसकी बिक्री पर रोक लगा दी थी. 

लाॅकडाउन के बाद शुरू हुई थी घरेलू उड़ान

24 मार्च 2020 से कोरोनावायरस के कारण देशभर में लाॅकडाउन की घोषणा कर दी गई थी. जिसके बाद से सभी घरेलू उड़ानों को बंद कर दिया गया था. लगभग 2 महीने बाद 25 मई 2020 से घरेलू उड़ानों को फिर से शुरू करने की घोषणा की गई. उड्डयन मंत्रालय ने सभी विमानन कंपनियों को 33% यात्रियों के साथ उड़ान भरने की इजाजत दी थी. उसके बाद धीरे-धीरे दिसंबर 2020 तक इस प्रतिशत को बढ़ाकर 80 कर दिया गया.

निलंबित है अंतरराष्ट्रीय पैसेंजर उड़ाने

कोरोनावायरस महामारी के कारण 23 मार्च 2020 से सभी अंतरराष्ट्रीय पैसेंजर उड़ाने निलंबित है. आपकी जानकारी के लिए बता दें भारत में लगभग 28 देशों के साथ ‘एयर बबल’ व्यवस्था के तहत विशेष उड़ानों की अनुमति दी है. एयर बबल की व्यवस्था के तहत एक देश की एयरलाइन को विशिष्ट प्रतिबंधों के साथ दूसरे क्षेत्र में सीमित अंतर्राष्ट्रीय यात्री उड़ानें संचालित करने की अनुमति दी गई हैं.

Back to top button
E-Paper