दो फुट जमीन को लेकर अधांधुध फायरिंग से किशोर की मौत, दो घायल



– पुलिस अधीक्षक ने घटना स्थल का निरीक्षण कर आरोपियों को शीघ्र पकड़ने के लिये टीमें गठित कीं
भोगांव/मैनपुरी- मात्र दो फुट जमीन को लेकर उपजे विवाद के दौरान हुई फायरिंग एवं पत्थर बाजी की घटना में एक किशोर की गोली लगने से घटना स्थल पर ही दर्दनाक मौत हो गई जबकि पिता, पुत्री तथा भंैस गोली लगने से गम्भीर रूप से घायल हो गये। किशोर की मौत से गांव मंे तनाव एंव दहशत की स्थिति बन गई। घटना की सूचना पर पुलिस अधीक्षक, अपर पुलिस अधीक्षक उपजिलाधिकारी सहित अन्य अधिकारियों ने घटना स्थल का निरीक्षण कर आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार किये जाने के थाना पुलिस को कडे़ निर्देश देते हुये तीन टीमों का गठन किया है।
बताते हंै कि थाना क्षेत्र के ग्राम नगला हीरे निवासी मुन्नालाल पुत्र सुखवासीलाल एवं उनके चचेरे भाई देवराज पुत्र उजागर के परिवार में देवराज की आर्थिक स्थिति मजबूत होने के कारण गांव मंे आये दिन दवंगई करते रहते हैं जबकि उनके चचेरे भाई मुन्नालाल यादव मेहनत मजदूरी करके अपने परिवार का भरष पोषण कर रहे हैं।

मुन्नालाल अपने दरवाजे के सामने कमरे का निर्माण कराना चाहते थे। जिसको लेकर दवंग देवराज एवं उसके पुत्र उपेन्द्र, बृजेश निर्माण कार्य नहीं करने दे रहे थे। जिस कारण आये दिन विवाद एवं मारपीट की घटना होती रहती थी। कई बार दोनो पक्षांे के रिश्तेदारों ने पंचायत कर समझौता भी कराया था। लेकिन दवंगई के चलते देवराज को उन समझौतांे को न मानकर झगडे़ पर उतारू हो जाता था। गत दिवस शुक्रवार को रिश्तेदारों ने पुनः समझौता कराया था। जिसमें देवराज व मुन्नालाल राजी हो गये थे।

किन्तु शनिवार को  लगभग 12 वजे देवराज एवं उसकेे पुत्र बृजेश, उपेन्द्र झगड़ा करने पर उतारू हो गये और देखते ही देखते दोनांे पक्षों मंे ईट पत्थर फिंकने लगे गांव के लोग भी एकत्र हो गये लेकिन यह किसी को आभास नहीं था कि आज का झगड़ा इतना विकराल रूप ले लेगा। प्रत्यक्षदर्शियांे के अनुसार उपेन्द्र यादव ने अपने पिता की लाईसंेसी 12 बोर की बन्दूक से फायरिंग शुरू कर दी।

जिससे लोग अपनी अपनी जान बचाने के लिये इधर उधर भागने लगे। इसी दौरान मुन्नालाल के 17 वर्षीय पुत्र जितेन्द्र सिंह उर्फ गोलू की छाती में गोली लगने से घटना स्थल पर ही ढेर हो गया तथा 10 वर्षीय पिंकी एवं उसके पिता मुन्नालाल एवं उसकी भंैस गोली लगने से घायल हो गये। आरोपी भाग जाने मंे सफल हो गये। घटना की जानकारी थाना पुलिस को मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने मृतक जितेन्द्र उर्फ गोलू का शव कव्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये भेजा है। घटना की जानकारी उच्चाधिकारियों को मिलने पर पुलिस अधीक्षक अजय कुमार पाण्डेय, अपर पुलिस अधीक्षक मधुवन सिंह, उपजिलाधिकारी सुधीर कुमार सोनी, पुलिस क्षेत्राधिकारी अमर बहादुर सिंह आदि घटना स्थल पर पहुचंकर घटना स्थल का निरीक्षण किया तथा आरोपियांे को गिरफ्तार करने के लिये टीमंे गठित करने के निर्देश दिये।

पुलिस अधीक्षक अजय कुमार पाण्डेय ने बताया कि आरोपियांे को पकड़ने के लिये सम्भावित स्थानांे पर दविशंे दीं जा रही हैं शीघ्र ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जायेगा। मृतक के पिता मुन्नालाल ने देवराज पुत्र उजागर सिंह व उसके पुत्र उपेन्द्र, बृजेश व उसकी पुत्री पूजा, बृजेश की पत्नी विनीता तथा छविनाथ पुत्र शिवराज सिंह के विरूद्ध थाना पुलिस को दी तहरीर में कहा कि आरोपियांे ने उसके घर में आकर घर से यह कहकर निकालने लगे कि यह घर मेरा है और गाली गलौज कर मारपीट करने लगे उपेन्द्र ने अपने पिता की लाईसंेसी बन्दूक से फायरिंग कर दी। जिससे उसके पुत्र जितेन्द्र उर्फ गोलू की गोली लगने से मौत हो गई तथा पुत्री टिन्की पत्नी राधा गोली एवं पत्थर लगने से घायल हो गई। बताया जाता है कि पुलिस ने कुछ आरोपियों ने हिरासत में लेकर पूछतांछ शुरू कर दी है।    
                               
भोगांव- काशः उपेन्द्र नोयडा से अवकाश पर न आया होता तो शायद इतनी बडी दुःस्साहसिक घटना घटित नहीं होती। बताते हंै कि देवराज यादव के दो पुत्र हैं एक पुत्र नोयडा में किसी प्राईवेट कम्पनी मंे नौकरी करता है जबकि उसका भाई बृजेश घर में रहकर खेती व अन्य कार्य देखता है लोगों ने दबी जुबान से बताया कि देवराज पर कई आपराधिक मामले भी दर्ज हैं जिस कारण वह गांव मंे दवंगई दिखाता है, कई ग्रामीणांे के साथ भी मारपीट की घटनायें भी घटित कर चुका है बताया जाता है कि उपेन्द्र शनिवार को अवकाश पर आया था और एक योजनाबद्ध तरीके से अपने पिता की लाईसेंसी बन्दूक से फायरिंग शुरू कर दी। जिससे जितेन्द्र की मौत हो गई यदि उपेन्द्र न आया होता तो शायद ये घटना घटित न होती। घायल हुई भैंस के भी पशु चिकित्सक डा0 वी.के गर्ग ने भैंस के शरीर से 12 छर्रे निकलने की पुष्टि की है।

थाना क्षेत्र केे ग्राम नगला हीरे में दिनदहाड़े हुई किशोर की गोली मारकर हुई हत्या से गांव छावनी में तव्दील हो गया और देखते ही देखते थाना बिछंवा, थाना बेबर सहित आदि थानों की पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस क्षेत्राधिकारी के निर्देशन मंे तैनात पुलिस बल ने गांव में शान्ति ब्यवस्था के लिये गांव के विभिन्न स्थानों पर पुलिस बल तैनात किया है। जिससे ग्रामीणों में दहशत व्याप्त न हो सके तो वहीं आपराधिक तत्व पुनः कोई दूसरी वारदात को अन्जाम न दे सकंे।
                                   

मैनपुरी से प्रवीण पाण्डेय/नीलेश मिश्र की रिपोर्ट

Back to top button
E-Paper