लखीमपुर खीरी : बोरवेल में घुसे युवकों की मौत के बाद लोगो में आक्रोश, प्रदर्शन की कोशिश

मैगलगंज खीरी। मैगलगंज कोतवाली क्षेत्र के खूंटी खुर्द गांव में बोरवेल में घुसे पांच युवकों में से दो लोगों की शनिवार रात मौत हो गई थी। दोनों युवकों का पीएम होने के बाद रविवार को जब शव गांव पहुंचे तो आक्रोशित ग्रामीणों ने परिजनों के साथ लखीमपुर मैगलगंज मार्ग पर एकत्र होकर जाम लगाने का प्रयास करने लगे। परिजनों की मांग थी कि युवकों की मौत के मामले में निष्पक्ष जांच की जाए उसके बाद ही अंत्येष्टि होगी। जाम की सूचना पर सीओ मितौली समेत सर्किल के तीनों थानों की फोर्स मौके पर पहुंच गई। पुलिस द्वारा मेल की निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिए जाने व काफी मशक्कत के बाद ग्रामीणों को गांव वापस कर सकी। समाचार प्रेषण तक शवों का अंतिम संस्कार की तैयारी जारी थी।

रविवार दोपहर लगभग एक बजे जब मृतक प्रवीण व रजनीश के शव खूंटी खुर्द गांव पहुंचे तो मौके पर मौजूद मृतक के परिजनो व रिश्तेदारों समेत हजारों ग्रामीणों का हुजूम आक्रोशित होकर एकत्र होने लगे और मामले की निष्पक्ष जांच किए जाने की मांग करते हुए लखीमपुर मार्ग की ओर निकल पड़े। मौके पर मौजूद इंस्पेक्टर विवेक उपाध्याय व चौकी प्रभारी औरंगाबाद अनूप मिश्रा सहित पुलिस टीम ने ग्रामीणों को समझाने के लिए प्रयास किया।

लेकिन ग्रामीण पुलिस की एक भी बात सुनने को तैयार नहीं हुए। तब इंस्पेक्टर ने उच्चाधिकारियों को मामले के बारे में अवगत कराया। सूचना पर सीओ मितौली सुबोध जायसवाल समेत नीमगांव, मितौली व मैगलगंज कोतवाली की भारी फोर्स मौके पर पहुंच गई।

पुलिस टीम से ग्रामीणों की झड़प भी हुई, इस बीच इंस्पेक्टर विवेक उपाध्याय के अथक प्रयास के बाद मृतक प्रवीण के भाई पवन रैदास को समझा बुझाकर जाम लगाने का प्रयास कर रही भीड़ के बिच्वले जाकर गांव वापस चलने के लिए कहलाया गया। तब जाकर भीड़ शांत हुई और वापस गांव चली गई। पुलिस की मौजूदगी में दोनों शव उनके घर ले जाए गए। जहां दोनों शवों की अंत्येष्टि की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं।

बोरवेल में उतरे तीन जांबाज सिपाही दीप वर्मा , प्रदीप सरोज ,प्रसांत मलिक को शौर्य प्रशंसा मेडल के लिए प्रस्ताव डीजी ऑफिस अति शीघ्र भेजा जाएगा यह जानकारी मैगलगंज कोतवाली प्रभारी निरीक्षक विवेक कुमार उपाध्याय ने दी।

Back to top button