अमेठी पुलिस ने 48 घंटे में किया किसान नेता की हत्या का खुलासा


अमेठी। भारतीय किसान यूनियन टिकैत गुट के जिलाध्यक्ष प्रमोद मिश्रा की हत्या के खुलासे में लगी पुलिस को 48 घंटों में ही इस हत्या के खुलासे में सफलता मिल गई। बीते शुक्रवार की शाम अमेठी से अपने घर जाते किसान नेता को रास्ते में लोनियापुर गांव के पास सड़क पर पहले से घात लगाए हत्यारों ने गोली मार दी। जिला अस्पताल सुल्तानपुर पहुचते पहुचते उन्होंने दम तोड़ दिया। शनिवार की शाम अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया तो  इस ब्लाइंड मर्डर  को गंभीरता से लेते पुलिस अधीक्षक डॉ ख्याति गर्ग ने कमान खुद संभालते हुए घटना के खुलासे के लिए चार टीमें गठित कर हर पहलू पर बारीकी से निग़ाह लगाई।

तमाम जानकारियां हासिल करने की कोशिश में जुटी पुलिस को इस हत्याकांड के पीछे एक भूमि विवाद का कारण भी जानकारी में आया। उक्त भूमि विवाद में एक पक्ष की हर स्तर पर पैरवी कर रहे किसान नेता को दूसरे पक्ष के अवध राज तिवारी के पुत्र सूरज तिवारी निवासी तिवारीपुर मजरे बरियारपुर थाना अमेठी ने रास्ते से हटाने की योजना बनाते हुए उसने अपने साथियों रोहित सुत महेंद्र तिवारी, अजीत मिश्रा सुत दिलीप मिश्रा निवासीगण डेहरा व अनुज सिंह सुत रविशंकर सिंह निवासी पूरे तालुकदार विशेसरगंज थाना संग्रामपुर के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया। पुलिस अधीक्षक डॉ ख्याति गर्ग ने बताया कि शुक्रवार की शाम जब किसान नेता प्रमोद मिश्रा मोटरसाइकिल पर अपने घर जा रहे थे तो अनुज सिंह व अजीत मिश्रा ने रेकी करते हुए उनके अमेठी से निकलने की सूचना सूरज तिवारी को दी और उसने अपने साथी रोहित जो मोटरसाइकिल अपाचे संख्या यू पी 44 ए एम 1751 चला रहा था के साथ पीछा करते हुए लोनियापुर के पास पीछे से गोली मार दी। 

पुलिस ने घटना में शामिल चारों अभियुक्तों को आला कत्ल एक अदद देशी कट्टा 12 बोर मय दागा व कट्टे में ही फसा कारतूस, घटना में प्रयुक्त दो मोटरसाइकिल व चार मोबाइल बरामद किया है। पुलिस की इस त्वरित कार्यवाही की भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं और तमाम प्रबुद्धजनों ने सराहना करते हुए पुलिस अधीक्षक के सराहनीय प्रयास के लिए धन्यवाद किया। प्रमोद मिश्रा के पिता ने भी पुलिस अधीक्षक से मिलकर उनको धन्यवाद ज्ञापित किया।

Back to top button
E-Paper