अर्से से बीमार है पूर्व प्रधानमंत्री, 2005 में की थी संन्यास की घोषणा

नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री और भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेयी की हालत काफी नाजुक है। उन्हें एम्स में फुल लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है। बीते 11 जून को एम्स में भर्ती किए गए अटल को किडनी में संक्रमण और मूत्रनली में सक्रमण जैसी स्वास्थ्य समस्याओं के कारण एम्स में भर्ती किया गया था। बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई वरिष्ठ नेता अटल से मिलने अस्पताल पहुंचे।

अर्से से अस्वस्थ्य चल रहे पूर्व प्रधानमंत्री को बीते 11 जून को एम्स में भर्ती किया गया था। यहां एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया के नेतृत्व में वरिष्ठ डॉक्टरों की एक टीम उनका इलाज कर रही है। 2005 में सक्रिय राजनीति से दूर रहने की घोषणा करने वाले अटल काफी लंबे समय से बीमार चल रहे हैं। आइए एक नजर डालते हैं कब-कब अटल को स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ा

  • 2001 वाजपेयी की मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में घुटने की सर्जी हुई थी।
  • 2005 में अटल बिहारी वाजपेयी ने सक्रिय राजनीति से दूर रहने की घोषणा की थी। अटल ने मुंबई के शिवाजी पार्क से इस बात का ऐलान किया था कि वह अब राजनीति नहीं करेंगे।
  • 2009 में वाजपेयी को स्ट्रोक (आघात) आया जिस कारण उन्हें बोलेने में दिक्कत होने लगी। तब से लेकर देश अभी तक अटल के भाषण सुनने से वंचित रहा।
  • 2015 में वाजपेयी की तस्वीर आखिरी बार उस समय सामने आई जब तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी उन्हें भारत रत्न से सम्मानित करने उनके घर पहुंचे थे।
  • 2018, जून में उन्हें संक्रमण की शिकायत के बाद अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती कराया गया।
Back to top button
E-Paper