औरैया हादसा : सड़क किनारे खड़ा था डीसीएम… तभी ट्रॉली ने मारी टक्कर, बोरी के नीचे दबी मिली 24 मजदूरों की लाश

किसी भी तरह घर पहुंचने की उम्मीद में निकले मजदूरों को कहां पता था कि उनकी सुबह होगी ही नहीं। वे ट्रक में चूने की बोरियों के बीच लेटकर अपने घरों की तरफ लौट रहे थे। लेकिन अल सुबह हुए दर्दनाक हादसे में चूने की उन्हीं बोरियों के नीचे दबकर मजदूरों ने दम तोड़ दिया।

चूने की बोरियों से ‘सफेद’ हुई लाश

मरने वालों में से ज्यादातर मजदूर टक्कर मारने वाले ट्रॉला में सवार थे। इस ट्रॉला में चूने की बोरियां लदी थीं। नींद में ही मौत के आगोश में समा गए मजदूर।

बोरी के नीचे दबी मिली 24 मजदूरों की लाश

बोरी के नीचे दबे हुए 24 मजदूरों की मौके पर ही मौत हो चुकी थी। 20 मजदूरों की हालत गंभीर है। उन्हें मेडिकल कॉलेज में रेफर किया गया है।

डीसीएम और ट्रॉली में टक्कर से हादसा

लॉकडाउन के बीच वापस घर लौट रहे कुछ मजदूर औरैया में दुर्घटना का शिकार हो गए। एक ट्रॉली दूसरे डीसीएम से टकरा गया। इस दुर्घटना में 24 मजदूरों की मौत हो गई है। मृतक इसी ट्रक में सवार थे। इस घटना के बाद घायलों को नजदीकी अस्पताल में पहुंचाया गया है।

राहत-बचाव कार्य में पुलिस और प्रशासनिक अमला

इस मामले की जानकारी मिलने के बाद प्रशासनिक अमले के भी होश फाख्ता हो गए। आनन-फानन में पुलिस टीम मौके पर पहुंची और राहत एवं बचाव कार्य शुरू कर दिया।

सड़क किनारे खड़ा था डीसीएम… तभी ट्रॉली ने मारी टक्कर

सड़क किनारे खड़े डीसीएम को जब ट्रॉला ने टक्कर मारी, उस वक्त कुछ मजदूर पास ही एक ढाबे में चाय पी रहे थे। मरने वालों में से ज्यादातर मजदूर टक्कर मारने वाले ट्रॉला में सवार थे। इस ट्रॉला में चूने की बोरियां लदी थीं। नींद में ही मौत के आगोश में समा गए मजदूर।

बंगाल, बिहार के साथ ही कुशीनगर के भी मजदूर

सुबह साढ़े तीन बजे हुआ हादसा। अधिकांश मजदूर बंगाल, बिहार जा रहे थे। इसमें कुछ मजदूर यूपी के कुशीनगर के भी थे।

चाय ने बचा ली कई मजदूरों की जान

चश्मदीदों के मुताबिक दिल दहला देने वाला हादसा उस वक्त हुआ जब कई मजदूर डीसीएम रोककर चाय पी रहे थे। बताया जा रहा है कि हादसे में मरने वाले मजदूरों की तादाद कहीं ज्यादा होती अगर वे चाय पीने के लिए उतरे न होते।

Back to top button
E-Paper