बांदा : महज शो-पीस बनकर रह गए जिला अस्पताल के लगे एसी, कूलर और पंखा

वार्डों में भीषण गर्मी से उबल रहे मरीज व तीमारदार

अव्यवस्थाओं पर आंख बंद किए हैं जिम्मेदार

भास्कर न्यूज

बांदा। जिला चिकित्सालय इन दिनों प्रबंधन की लापरवाही की चलते इस भीषण तपन में मरीज व उनके परिजन तप रहे हैं, क्योंकि जिला अस्पताल के विभिन्न वार्डों में लगे एसी व कूलर शोपीस बने हुए है। आधे से ज्यादा एसी और कूलर बंद पड़े हुए है और प्रबंधन सिर्फ कागजों के माध्यम से जिला अस्पताल की व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने में लगा हुआ है।

भले ही केंद्र व प्रदेश सरकारें स्वास्थ्य विभाग के तहत प्रदेश की जनता को सर्वसुविधायुक्त स्वास्थ्य व्यवस्था देने के लिए पानी की तरह पैसा बहा रही है। बावजूद उसके जिला अस्पताल का प्रबंधन शासन के बजट को कागजी कार्रवाई कर ठिकाने में लगाने में जुटा है। यह आरोप मरीज व उनके परिजन इसलिए लगा रहे है, क्योंकि जिले में तापमान 45 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच रहा है। जिला अस्पताल 300 बेड का है। इस भीषण गर्मी में अस्पताल में भर्ती मरीज एवं उनके परिजन तपन से परेशान हो रहे हैं।

जिला अस्पताल विभिन्न वार्डों में लगे एसी व कूलर अधिकतर बंद पड़े हुए है। जिला अस्पताल में प्रबंधन की व्यवस्थाओं के हाल बेहाल है। वार्डों के अंदर कूलर तो है मगर वह हवा नहीं दे रहे हैं। कुछ कूलर चालू हालत में तो है, लेकिन कोई उनमें पानी भरने वाला नहीं है। इसलिए वह भी गर्म हवा दे रहे हैं। दीवारों पर लगे एसी के आॅन होने की सिर्फ लाइट जल रही है। यह हाल जिला चिकित्सालय के लगभग सभी वार्डों का है। जिसका खामियाजा मरीज और उनके परिजन भुगत रहे हैं। जिला अस्पताल सीएमएस डा.एसएन मिश्रा का कहना है कि बंद एसी कूलर जल्द रिपेयर करा दिए जाएंगे और इस लापरवाही में शामिल कर्मचारियों पर कार्रवाई की जाएगी।

गर्मी में बीमार हो रहे तीमारदार

जिला अस्पताल आने वाले मरीज और उनके परिजन यहां आकर पहले से ज्यादा बीमार हो रहे हैं। भीषण गर्मी में जिला अस्पताल के वार्डों में भर्ती मरीजों के साथ सेवा में जुटे तीमारदारों की हालत खराब है। यहां के विभिन्न वार्डों में पंखे जरुर लगे हैं, लेकिन इस समय वह गर्म हवा दे रहे हैं। एसी और कूलर ठीक ढंग से न चलने पर मरीजों के साथ तीमारदार भीषण गर्मी से उबल रहे हैं। मरीजों की उनके तीमारदार हाथ के पंखों से हवा कर राहत देने का काम कर रहे हैं। हालात यह हैं कि मरीजों की सेवा करने वाले तीमारदार भीषण गर्मी की चपेट में आकर खुद बीमार हो रहे हैं। 

एक दिन में एक सैकड़ा मरीज हो रहे भर्ती

गर्मी से लोगों की हालत खराब है। इसके चलते तेजी से लोग बीमार हो रहे हैं। जिला अस्पताल की रिपोर्ट के मुताबिक, ओपीडी में प्रतिदिन एक हजार से अधिक इलाज कराने के लिए पहुंच रहे हैं। वहीं, एक दिन में विभिन्न बीमारियों के 100 मरीजों को अलग-अलग वार्डो में भर्ती करना पड़ रहा।

साहब ले रहे एसी का मजा

भीषण गर्मी से हर कोई बेहाल है, ऐसे में बीमारी घेर ले तो अस्पताल में भी राहत नहीं मिलेगी। अस्पताल के वार्डों में लगे पंखों से गर्म हवा निकल रही है और मरीज गर्मी से परेशान हैं। वहीं साहब एसी का मजा ले रहे हैं। उनके कमरों में लगे एसी ठंडी हवा फेंक रहे हैं। शायद यही वजह है कि साहब को भीषण गर्मी का जरा भी एहसास नहीं हो रहा है। जिला अस्पताल में अव्यवस्था मरीज व तीमारदारों पर भारी पड़ रही है।

Back to top button