बांदा : माफिया डॉन की खातिरदारी मामले ने पकड़ा तूल, डीआईजी ने किया निरीक्षण

डिप्टी जेलर समेत चार कर्मियों के निलंबन के बाद शुरु हुई जांच

माफिया डॉन मुख्तार की खातिरदारी करने का लगा था आरोप

भास्कर न्यूज

बांदा। मंडल कारागार में निरुद्ध बाहुबली मुख्तार अंसारी के बैरिक में आम और अन्य सामान मिलने के बाद आईजी जेल द्वारा डिप्टी जेलर समेत चार जेल कर्मियों पर निलंबन की कार्रवाई होने के बाद डीआईजी जेल जांच करने मंडल कारागार पंहुचे। उन्होंने पूरे जेल परिसर का बारीकी से निरीक्षण किया है। करीब 6 घंटे के निरीक्षण के बाद डीआईजी जेल को सब कुछ दुरुस्त मिला। उधर डिप्टी जेलर व बंदी रक्षकों के निलंबन की विभागीय स्तर पर जांच शुरू कर दी गई है।

सोमवार की देर रात जिलाधिकारी अनुराग पटेल, पुलिस अधीक्षक अभिनंदन द्वारा भारी पुलिस बल के साथ मंडल कारागार का निरक्षणा किया गया था। इस निरीक्षण में तनहाई बैरिक में बंद बाहुबली मुख्तार अंसारी खासतौर पर निशाने पर रहे, जबकि दोनों ही अधिकारियों द्वारा समूचे जेल का निरीक्षण किया गया था। इसमें बताया गया है कि मुख्तार अंसारी की बैरिक में बड़ी मात्रा में आम, कीवी आदि फल मिले। जिस पर अधिकारियों द्वारा बताया गया है कि यह बंदी से मिलाई के लिए आने वाले लोगों द्वारा दिए जा सकते हैं। डीएम और एसपी की जांच रिपोर्ट पर आईजी जेल ने मंगलवार को संदिग्ध भूमिका पाए जाने पर डिप्टी जेलर वीरेश्वर प्रताप सिंह समेत चार बंदी रक्षकों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। पांच जेल कर्मियों पर निलंबन की कार्रवाई होने के दूसरे दिन बुधवार को डीआईजी जेल संजीव त्रिपाठी ने भी डीजी जेल के निर्देश पर मंडल कारागार का निरीक्षण किया। उन्होंने पूरे जेल कैंपस का करीब छह घंटे तक निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि जेल में कोई भी आपत्ति जनक सामान नहीं मिला है और न ही कोई विशेष कमियां भी मिली हैं। उन्होंने यह बताया कि सोमवार की रात निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी को काफी देर रुकना पड़ा था। जिसके कारण डिप्टी जेलर वीरेश्वर प्रताप सिंह तथा बिना बॉडी कैम पाए जाने पर 4 जेल कर्मियों के विरूद्ध निलंबन की कार्रवाई की गई हैं। डीआईजी जेल ने मंडल कारागार के प्रभारी जेल अधीक्षक को निर्देश दिए हैं कि सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए विशेष व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाए।

Back to top button