बांदा : कोरोना में अनाथ हुए विद्यार्थियों को योगी सरकार ने दी सौगात

महिला आयोग सदस्य व डीएम ने विद्यार्थियों को सम्मानित किया

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत 13 छात्र-छात्राओं को बांटे लैपटॉप

बांदा। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत कोरोना की वजह से अपने माता-पिता या इनमें से एक को खोने वाले 13 विद्यार्थियों को समारोह के बीच राज्य महिला आयोग सदस्य व जिलाधिकारी ने लैपटॉप बांट कर सम्मानित किया। साथ ही शिक्षा एवं पोषण के लिए विद्यार्थियों को आर्थिक मदद का भरोसा दिलाया।

कोविड के दौरान अपने परिजनों को खोेने वाले कक्षा 9 या उससे उपर पढ़ने वाले 18 वर्ष तक के 13 विद्यार्थियों को शुक्रवार को कलक्ट्रेट सभागार में समारोह के बीच मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत राज्य महिला आयोग सदस्य प्रभा गुप्ता और डीएम अनुराग पटेल ने सम्मानित करते हुए लैपटॉप बांटे। लैपटॉप पाने वालों में अभिषेक सोनी, संदीप, दीपेंद्रचंद्र अवस्थी, किस निगम, मानवी, रोशनी पाठक, शिवम पाठक, अंशिका साहू, वैभव पांडेय, विवेक दीक्षित, छाया, संजय, अजय शामिल हैं। विद्यार्थियों के के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए राज्य महिला आयोग सदस्य और डीएम ने शिक्षा क्षेत्र में कामयाबी पाने का मूलमंत्र बताया।

राज्य महिला आयोग सदस्य ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान तमाम लोगों ने अपनों को खोया है। उसकी भरपाई करना असंभव है, लेकिन भाजपा सरकार उनके सुख-दुख में साथ है। शासन की योजनाओं का लाभार्थियों को फायदा दिलाने का कार्य किया जा रहा है। डीएम ने कहा कि पीएम मोदी और सीएम योगी द्वारा कोरोना के दौरान जनपद में अनाथ हुए 85 बच्चों को चार हजार रुपये प्रतिमाह की आर्थिक मदद दिलाई जा रही है। 11 से 18 आयु वर्ग के बच्चों की कक्षा-12 तक की नि:शुल्क शिक्षा को अटल आवासीय विद्यालय तथा कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों में प्रवेश को 12 हजार रुपये प्रतिवर्ष आर्थिक मदद भी प्रदान की जा रही है।

समारोह को बड़ोखर खुर्द ब्लाक प्रमुख स्वर्ण सिंह सोनू, सीडीओ वेद प्रकाश मौर्या, एसडीएम सदर सुधीर कुमार, बाल कल्याण समिति अध्यक्ष अर्चना आदि ने विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य की कामना की। जिला समाज कल्याण अधिकारी गीता सिंह ने सभी का आभार जताया। 

Back to top button